निगम पर चढ़ा इलेक्शन का फीवर, यहां भी आमने-सामने आए चाचा-भतीजे

निगम पर चढ़ा इलेक्शन का फीवर, यहां भी आमने-सामने आए चाचा-भतीजे
gzb nagar nigam

चुनाव चिन्ह मिला 'घोड़ी' तो उसी से किया जा रहा है प्रचार

गाजियाबाद। नगर निगम कर्मचारी संघ के चुनाव का प्रचार अपने चरम पर पहुंच गया है। इस चुनावी महासमर में अपनी किस्मत आजमा रहे तीनों पैनल के उम्मीदवारों ने बड़े चुनाव कार्यालय खोल दिए हैं। जिससे लगता है कि जैसे हाॅटसिटी में विधानसभा स्तर के चुनाव हो रहे हैं। बड़े होर्डिंग्स और पोस्टरों को देखकर लोग हैरान हैं। नगर निगम कर्मचारी संघ मामलों के जानकारों की माने तो इस प्रतिष्ठा के चुनाव में पचास लाख से भी ज्यादा का खर्चा हो रहा है। चुनाव पर खर्चा करने वालों में पैनल सी सबसे आगे है। इस पैनल ने पैनल ऐ और बी को प्रचार के निचले पायदान पर छोड़ दिया है। पैनल सी के चुनाव कार्यालय में सबसे ज्यादा नगर निगम कर्मचारियों की आवाजाही दिख रही है। दूसरे नम्बर पर पैनल ऐ का चुनाव का कार्यालय है। जहां पर नाॅनस्टोप भोजन की व्यवस्था है।

चुनाव में चाचा-भतीजे हुए आमने-सामने

मजे की बात यह है कि इस चुनावी महासमर में अध्यक्ष पद पर चाचा और भतीजे एक दूसरे को जबरदस्त टक्कर दे रहे हैं। पैनल ऐ से नैनसिंह अध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ रहे वहीं पैनल सी से हरिन्द्र नागर अध्यक्ष पद पर उन्हें कड़ी टक्कर दे रहे हैं। दोनों के बीच चाचा-भतीजे का रिश्ता है। सैंद्वान्तिक तौर पर दोनों के आपस में गहरे मतभेद हैं। 2011 के चुनाव में हरिन्द्र नागर ने नैनसिंह को हराकर संघ के अध्यक्ष पद पर कब्जा किया था। आपको बता दें कि 2007 के चुनाव में नैनसिंह विजयी हुए थे। दोनों की टक्कर को लेकर नगर निगम में चर्चा का विषय बना हुआ है।

चुनाव चिन्ह घोड़ा बना आकर्षण का केद्र

पैनल सी का चुनाव चिन्ह घोड़ा है, दो घोड़ो को लेकर ही पैनल सी के उम्मीदवार निगम के सभी कार्यालय परिसरों में इन घोड़ो को प्रचार के लिए ले जाते हैं। बताया जाता है कि ये घोड़े प्रशिक्षित हैं और इशारे पर एक कुशल जिमनास्ट की तरह कर्तव्य भी दिखाते हैं। सूत्रों की माने तो इन घोड़ो पर प्रतिदिन यह पैनल 3 से 4 हजार रुपये खर्च कर रहा है। पैनल सी से अध्यक्ष पद के उम्मीदवार हरिन्द्र नागर ने 2011 में भी घोड़े के चुनाव चिन्ह पर चुनाव लड़ा था और विजय हासिल की थी।

पैनल बी बिगाड़ सकता है किसी का भी समीकरण

इस चुनावी महासमर में पैनल बी से प्रदीप शर्मा अध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ रहे हैं। नगर निगम कर्मचारी संघ से जुड़े सूत्रों की माने तो प्रदीप शर्मा पहले पैनल ऐ से महासचिव पद के लिए चुनाव लड़ना चाहते थे, लेकिन पैनल ने उनकी इस मांग को ठुकरा दिया था। जिसके चलते उन्होंने अपना पृथक पैनल बनाकर चुनावी समर में ताल ठोक दी। सूत्रो का कहना है कि इस नए समीकरण ने पैनल ऐ के रास्ते में बाधा खड़ी कर दी है। 

पैनल बी को चुनावी समर से हटने के लिए कवायद

भनक लगी है कि प्रदीप शर्मा नीत पैनल बी को चुनावी समर से हटने के लिए कुछ कर्मचारी कोशिश कर रहे हैं, लेकिन प्रदीप शर्मा और उनके साथियों ने चुनाव मैदान से हटने के लिए साफ मना कर दिया है। चुनाव से पहले भी उन्हें मनाने की कोशिश की गयी थी। नगर निगम कर्मचारी संघ के चुनावी महासमर में कुल तीन पैनल के 24 उम्मीदवार अपना-अपना भाग्य आजमा रहे हैं। खास बात यह है कि कुल आठ पदों के लिए इस समय चुनाव हो रहे। पेनल ऐ में नैन सिंह अध्यक्ष और चैब सिंह महामंत्री पद के लिए चुनाव मैदान में है।

इसके अलावा अनिल कुमार उपाध्यक्ष, जयभगवान शर्मा उपमंत्री, रहीसुददीन संगठनमंत्री, गौरव शर्मा प्रचारमंत्री ए हिमाशु शर्मा कोषाध्यक्ष व शेरसिंह कार्यालय मंत्री पद के लिए अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। इस पैनल का चुनाव चिन्ह शेर है। पैनल बी में प्रदीप शर्मा अध्यक्ष और राजीव गोयल महामंत्री पद के लिए ताल ठोक रहे हैं।
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned