Ghaziabad: दो बच्चों और एक खरगोश की हत्या के बाद मौत को गले लगाने वालों की पूरी नहीं हुई ये अंतिम अच्छा

Highlights:

-बुधवार को गुलशन वासुदेवा समेत चार लोगों का हिंडन घाट पर अंतिम संस्कार कर दिया गया

-संजना उर्फ गुलशन का शव उसके परिजनों को सौंप दिया गया है

-जिसे दिल्ली ले जाया जा रहा है। जहां मुस्लिम रीति रिवाज के अनुसार शव दफनाया जाएगा

गाजियाबाद। इंदिरापुरम (Indirapuram Mass Suicide case) थाना क्षेत्र में मंगलवार को दो बच्‍चाें की हत्‍या के बाद तीन लोगों द्वारा आत्‍महत्‍या (Ghaziabad Mass Suicide) करने के मामले में पुलिस ने मुख्य आरोपी राकेश वर्मा (Rakesh Verma) को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं बुधवार को गुलशन वासुदेवा (Gulshan Vasudeva) समेत चार लोगों का हिंडन घाट पर अंतिम संस्कार कर दिया गया। जबकि संजना उर्फ गुलशन का शव उसके परिजनों को सौंप दिया गया है। जिसे दिल्ली ले जाया जा रहा है। जहां मुस्लिम रीति रिवाज के अनुसार शव दफनाया जाएगा। इसके साथ ही दीवार पर लिखे सुसाइट नोट के मुताबिक पांचों शवों का एक साथ अंतिम संस्कार करने की मृतकों की इच्छा पूरी नहीं हो सकी।

यह भी पढ़ें : पांच लोगों की मौत के आरोपी ने बताई ऐसी सच्चाई, जो अभी तक किसी को नहीं थी मालूम

संजना उर्फ गुलशन की मां नूरजहां ने रोते हुए बताया कि उनकी एक साल से अपनी बेटी ने बात नहीं हुई थी। अब जब वह मिली है तो सदा के लिए सो चुकी है। उन्हें कल ही घटना की जानकारी मिल गई थी। लेकिन, उनकी बेटी के पास उन्हें कोई नहीं लाया। उनकी बेटी भले ही दूर थी, लेकिन खुश थी और इसी बात से वह भी खुश थीं। अब वह अपनी बेटी का शव लेकर दिल्ली के रामपुरा जाएंगी। फिर वहां शव को दफनाएंगी।

यह भी पढ़ें: घर में दीवार से चिपके मिले थे 10 हजार रुपये, पुलिस ने 2 करोड़ रुपये लेने वाले को किया गिरफ्तार

गौरतलब है कि मृतकों ने फ्लैट की दीवार पर एक सुसाइड नोट लिखा था, जिसमें पांचों के शवों का अंतिम संस्कार एक साथ करने की इच्छा जाहिर की गई थी। इसके साथ ही उन्होंने अंतिम संस्कार के लिए 10 हजार रुपये भी चिपकाए थे और लिखा था कि ये पैसे उनके अंतिम संस्कार के लिए हैं।

यह था मामला

गाजियाबाद के थाना इंदिरापुरम इलाके के वैभव खंड स्थित कृष्णा सफायर सोसायटी में मंगलवार को 805 नंबर फ्लैट में रहने वाले गुलशन ने अपनी पत्‍नी परमीना और मैनेजर संजना के साथ आठवीं मंजिल से छलांग लगाकर आत्‍महत्‍या कर ली थी। इससे पहले गुलशन ने अपने दो बच्‍चों रितिक और रितिका की हत्‍या कर दी गई थी। उन्होंने दीवार पर एक सुसाइड नोट भी लिखा। जिसमें आत्महत्या का कारण आर्थिक तंगी बताया गया था। इसमें गुलशन ने अपने साढ़ू राकेश वर्मा को जिम्‍मेदार ठहराया था। घर की दीवार पर सुसाइड नोट के अलावा 10 हजार रुपये भी चिपके मिले थे। इसमें 500 रुपये के 18 नोट थे जबक‍ि बाकी 100-100 के नोट थे। साथ ही में लिखा था कि ये उनकी क्रियाकर्म के पैसे हैं और पांचों शवों का एक साथ अंतिम संस्कार करने की भी इच्छा जाहिर की गई थी।

Rahul Chauhan
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned