नईम गाजी हत्याकांड: पुलिस ने दो साल के बच्चे को भी भेजा जेल

भाजपा का आरोप सपा के दबाव में की जा रही कार्रवाई

By: sandeep tomar

Published: 24 Dec 2016, 07:13 PM IST

गाजियाबाद। मेरठ में नईम गाजी हत्याकांड मामला साम्प्रदायिकता की आग में लिपटता जा रहा है। हिन्दू स्वाभिमान संगठन के संयोजक यति नरसिम्हानंद सरस्वती ने पुलिस की कारवाई पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि बेकसूर हिंदू परिवार को फंसाने के लिए फौरी तौर पर एक्शन लिया गया है। न्याय की आवाज को मजबूत करने के लिए संगठन हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीमकोर्ट में अपील करेगा। उधर, बीजेपी ने भी आरोप लगाया है कि सत्ता के मद में पुलिस कारवाई कर रही है। गहनता से पहले इसकी जांच होनी चाहिए थी।

दो साल के बच्चे के लिए भी एक ही धारा

यति नरसिम्हानंद सरस्वती के मुताबिक राजनीतिक रसूखों ने देश में न्याय को कुचल कर रख दिया। नईम गाज़ी हत्याकांड में पुलिस ने दो साल के बच्चे सहित सारे परिवार पर एक जैसी धाराओं में जेल भेजकर अंग्रेजों और अत्याचारी मुस्लिम सुल्तानों को भी पीछे छोड़ दिया। संविधान बनाने वालों की धारणा थी की चाहे 100 दोषी छूटे पर एक निर्दोष को सजा नहीं होनी चाहिये। लेकिन इस मामले में पुलिस ने बिलकुल उलट किया है।

पुलिस के खिलाफ आयोग और अदालत में शिकायत

संगठन की राष्ट्रीय अध्यक्ष चेतना शर्मा एड़वोकेट ने आरोप लगाया कि कारवाई के नाम पर भीड़ के दबाब में आनन्द शर्मा के परिवार को हिन्दुओं के लिये उदाहरण बनाने की कोशिश की है। मामले में बुजुर्ग, बीमार और निर्दोष महिला सहित बेटी दामाद को दो साल के बच्चे के साथ जेल भेजा है। परिवार के मानवाधिकारों को कुचल कर रख दिया गया है जिसका जवाब अब पुलिस को उच्च न्यायालय में देना पड़ेगा। इस केस को लेकर उच्च न्यायालय में जनहित याचिका दायर की जायेगी ताकि पुलिस प्रशासन को न्याय की कीमत समझाई जा सके।

सपा एजेंट की तरह हो रहा काम

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश कार्यकारणी सदस्य डॉ. वीरेश्वर त्यागी का आरोप है कि पुलिस भी एजेंट की तरह काम कर रही है। परिवार या मासूम किसी भी हत्या में कैसे शामिल हो सकता है। साफ़ है कि बिना सत्यता को जाने पुलिस ने करवाई की है।

एसएसपी का कहना

एसएसपी जे. रविंद्र गौड़ का कहना है कि अभी विवेचना की जा रही है। इस दौरान सभी पहलु पर नजर डाली जा रही है। पुलिस की तरफ से केस के सम्बन्ध में कोई जल्दबाजी नहीं की है। हत्याकांड की कड़ी जोड़ी जा रही है।

ये हुआ था मामला

सोहराबगेट स्थित भगत सिंह मार्केट के प्रधान और प्रॉपर्टी डीलर नईम गाजी एक हफ्ते से लापता था। कंकरखेड़ा में नाले के पास में उसका शव मिला था। बीजेपी के दो नेताओं हैप्पी और रमाशंकर का नाम हत्या के मामले में प्रकाश में आया था। पुलिस ने केस खोले जाने के दबाब में बीजेपी नेता उसके परिवार के लोगों को भी गिरफ्तार करके जेल भेज दिया।
BJP
Show More
sandeep tomar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned