पत्रिका अभियान: अब सरकार ने बेसिक शिक्षा अधिकारी को दिए स्वेटर बांटने के आदेश

आधी सर्दी बीतने के बाद भी बच्चों को नहीं बांटे जा सके स्वेटर, छात्र ठिठुरने को हैं मजबूर

By: Iftekhar

Published: 04 Jan 2018, 07:39 PM IST

ग़ाज़ियाबाद/मुरादाबाद/नोएडा. आधी सर्दी बीत जाने के बाद भी प्राइमरी स्कूलों के बच्चों को स्वेटर मुहैया कराने में नाकाम सरकार ने फिर एक आदेश जारी किया है। बच्चों के ठंड में ठिठुरने की खबर के बाद किरकिरी होने पर उत्तर प्रदेश सरकार ने अब सभी जिलों के बेसिक शिक्षा अधिकारी (BSA) को स्वेटर खरीद कर बांटने के आदेश दिए हैं। हालांकि, सरकार के इस आदेश के बाद भी यह तय नहीं है कि बच्चों को स्वेटर कब दिए जाएंगे। कुछ अधिकारी एक हफ्ते में तो कुछ जनवरी माह के आखिर तक स्वेटर बांटने की बात कह रहे हैं। इससे इतना तो तय है कि अधिकारियों की ओर से स्वेटर बांटते-बांटते शीतलहर निकल जाएगी।

पत्रिका अभियानः आधी ठंड बीत गई सरकारी स्कूलों के बच्चों को नहीं मिले स्वेटर
बेसिक शिक्षा मंत्री ने जारी किए आदेश

दरअसल, बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल ने अब सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों (BSA) को आदेश दिया है कि वे अपने जिले की लोकल मार्केट से ही स्वेटर खरीदें और बच्चों में जल्द बटवाएं। सरकार ने स्वेटर की लागत 200 रुपए तय की है। गौरपतलब है कि यूपी सरकार ने जिन दो कंपनियों को स्वेटर खरीदने के लिए सेलेक्ट किया था, उनके टेंडर रद्द कर दिए हैं। दरअसल, इन कंपनियों ने सरकार की बताई कीमत पर स्वेटर देने से मना कर दिया था।

पड़ताल- योगी सरकार के दावों की निकली हवा, ठंड में कांपने को मजबूर बच्चे

पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने सरकार पर कसा तंज

पत्रिका की खबर के बाद उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी प्रदेश की योगी सरकार पर तंज कसा था। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि सरकार बार-बार स्वेटर के टेंडर कैंसल कर रही है और स्कूल के बच्चों को है सरकार की तरफ़ से दिए जाने वाले स्वेटर का इंतजार। कहीं ऐसा न हो कि इधर बच्चे झूठी उम्मीदों की आग तापते ही रह जाएं और उधर टेंडर की प्रक्रिया पूरी होते-होते मई-जून आ जाए।

UP के सरकारी स्कूलों के बच्चों को नहीं मिले स्वेटर, सर्दी में ठिठुरने को हैं मजबूर, देखें तस्वीरें

पेरेंट्स एसोसिएशन ने सरकार के फैसले पर जताई निराशा

पेरेंट्स एसोसिएशन के सचिव सचिन सोनी ने सरकार के इस फैसले पर भी निराशा जताई है। उन्होंने कहा कि सरकार पर दवाब के बाद टेंडर वाले किस्से को खत्म कर अब बेसिक शिक्षा अधिकारी (BSA) के हाथ में कमान सौंपी गई है। लेकिन, उसके पास में फंड के आने में समय लगेगा। इसके बाद फिर स्वेटर खरीदकर वितरित किए जाएंगे, जिससे काफी देर हो जाएगी। बेहतर यह होता कि स्कूल के प्रिंसिपल को बच्चों की संख्या के हिसाब से जिम्मेदारी दी जाए। इसके बाद प्रिंसिपल खुद स्वेटर खरीद कर बच्चों में बाटें। बीएसए को सिर्फ योजना का निरीक्षण करना चाहिए।

पत्रिका अभियान: बिना स्वेटर स्कूल जा रहे बच्चे, अभिभावकों ने गरम कपड़े दिलाने में जताई असमर्थता

आदेश के बाद यह बोले अफसर

गाजियाबादः बेसिक शिक्षा अधिकारी विनय कुमार ने बताया कि शासन की तरफ से इसके संबंध में जीओ जारी किया गया है। अब स्कूल प्रबंधन समिति ही बच्चों को स्वेटर मुहैया कराएगी। जनवरी के अंत तक बच्चों को स्वेटर दे दिए जाएंगे। गौरतलब है कि जिले में कुल 500 सरकारी स्कूल हैं, जिनमें करीब 80 हजार बच्चे पढ़ते हैं।

नोएडाः गौतम बुद्धनगर के बीएसए बालकृष्ण मुकुंद ने बताया कि बुधवार को शासन से निर्देश मिले हैं। इसमें कहा गया है कि अब स्कूलों की कमेटी को ही स्वेटर खरीद कर बांटना होगा। इसके लिए मार्केट से कोटेशन आदि लिया जा रहा है और उम्मीद है कि अगामी एक हफ्ते में सभी बच्चों को स्वेटर दे दिए जाएंगे। गौरतलब है कि जिले में कुल 683 सरकारी स्कूल हैं, जिनमें करीब 78 हजार बच्चे पढ़ते हैं।

Show More
Iftekhar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned