गाजियाबाद अग्निकांड: आग से झुलसे दो भाइयों समेत युवती ने तोड़ा दम, एक की हालत नाजुक

Highlights

- 11 मार्च को लिंक रोड थाना क्षेत्र स्थित पीपीई किट बनाने वाली कंपनी में लगी थी भीषण आग

- हादसे में मरने वाली की संख्या पहुंची चार, 8 कर्मचारी उपचाराधीन

- कर्मचारी के परिजनों ने लगाया मदद नहीं मिलने का आरोप

By: lokesh verma

Published: 17 Mar 2021, 10:45 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
गाजियाबाद. लिंक रोड थाना क्षेत्र स्थित साइट-4 में पीपीई किट समेत अन्य मेडिकल उपकरण बनाने वाली कंपनी में 11 मार्च को आग में झुलसे लोगों का उपचार अलग-अलग अस्पताल में जारी है। इनमें से कंपनी के मालिक समेत गंभीर हालत में तीन लोगों को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन अगले ही दिन ही कंपनी मालिक की उपचार के दौरान मौत हो गई थी।जबकि हादसे के शिकार कंपनी में काम करने वाले दो भाई विश्वनाथ और मोहित समेत एक युवती ट्विंकल भी जिंदगी की जंग हार गए हैं। विश्वनाथ और ट्विंकल का दिल्ली के राम मनोहर लोहिया और मोहित का वैशाली के प्राइवेट हॉस्पिटल में इलाज चल रहा था।

यह भी पढ़ें- समझौता वार्ता कोर्ट के भीतर वकील की जमकर धुनाई, दिखा हैरान करने वाला मंजर

गौरतलब हो कि 11 मार्च को थाना लिंक रोड इलाके में स्थित एक मेडिकल उपकरण बनाने वाली कंपनी में केमिकल और पीपीई किट रखे होने के कारण भीषण आग लग गई थी। सूचना पर पहुंची दमकल विभाग की करीब दर्जनभर गाड़ियों ने मौके पर पहुंचकर कई घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया था। इस दौरान करीब आधा दर्जन से ज्यादा लोग बुरी तरह झुलस गए थे। इनमें से फैक्ट्री मालिक समेत कुल तीन लोगों की हालत बेहद गंभीर थी, जिन्हें दिल्ली के अस्पताल में रेफर किया गया था। अगले दिन उपचार के दौरान फैक्ट्री मालिक ने दम तोड़ दिया। जबकि एक महिला और दो अन्य कर्मचारी ने भी उपचार के दौरान मंगलवार की शाम दम तोड़ दिया है। बता दें कि अब तक इस हादसे में चार लोगों की मौत हो गई है।

पांच भाई-बहन में सबसे छोटी थी ट्विंकल

बता दें कि इस हादसे में 85 फीसदी तक झुलसी ट्विंकल की डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल में मौत हो गई है। पोस्टमार्टम के बाद ट्विंकल के शव को एटा स्थित पैतृक गांव जहांनगर ले गए हैं। परिजनों ने बताया कि पांच बहन-भाइयों में सबसे छोटी ट्विंकल तीन साल से नौकरी कर रही थी। उन्होंने कहा कि हादसे के बाद से अभी तक उनकी शासन या प्रशासन ने कोई मदद नहीं की है।

8 कर्मचारी सफदरजंग अस्पताल में उपचाराधीन

इस हादसे में झुलसे कंपनी कर्मचारी राशिद, जावेद, सद्दाम, सैफुल, शकीबुल, सुशील और विवेक निवासी महाराजपुर के अलावा गाजीपुर निवासी अरविंद तिवारी फिलहाल सफदरजंग अस्तपाल में उपचाराधीन हैं। इनमें से विवेक की हालत नाजुक बनी हुई है। वहीं, अन्य की हालत स्थिर बताई जा रही है।

यह भी पढ़ें- Bullet पर दो युवतियों का Stunt करते वीडियो वायरल, UP Police ने काटा 11 हजार का चालान

lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned