गाजियाबाद से लापता व्यापारी 16 दिन बाद यूपी गेट पर किसानाें के बीच मिला

नाटयीक ढंग से लापता हुए व्यापारी की पुलिस तलाश कर रही थी. परिजनों की तहरीर पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया था। अब 16 दिन बाद व्यापारी किसानों के बीच से मिला है।

By: shivmani tyagi

Updated: 18 Dec 2020, 10:11 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
गाजियाबाद ( ghazibad ) नाटकीय ढंग से लापता व्यापारी किसानों की लड़ाई लड़ रहा था। किसानाें के बीच से पुलिस ( ghazibad police )
ने उसे बरामद किया है। पुलिस की जांच में यह बात सामने आई है कि व्यापारी पर काफी कर्ज हाे गया था। कर्ज से परेशान हाेकर वह घर से लापता हाे गया और किसानों के बीच रहने लगा। किसानाें के आंदाेलन में उनके साथ खड़ा रहा।

यह भी पढ़ें: खड़े ट्रक से निकल रही थी खून की धार, ड्राइवर ने भीतर झांककर देखा ताे उड़ गए होश

गाजियाबाद की शंकर विहार कॉलोनी के रहने वाले प्रवीण शर्मा एक दिसम्बर को कार लेकर घर से निकले थे लेकिन वापस नहीं लौटे। कुछ देर बाद उनका फोन भी बंद हाे गया। काफी तलाश करने के बाद भी जब व्यापारी नहीं मिला, तो गत 13 जनवरी को व्यापारी की पत्नी ज्योति ने मुरादनगर थाने में गुमशुदगी की तहरीर दी।

यह भी पढ़ें: मेरठ की इस मुस्लिम महिला ने कुख्यात आतंकी माैलाना मसूद अजहर के खिलाफ माेर्च खाेला

इस मामले कि जानकारी देते हुए प्रभारी निरीक्षक अमित कुमार ने बताया कि रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू की तो कई चौकाने वाली बात सामने आई। उन्होंने बताया कि सर्विलांस टीम ने गुरुवार सुबह व्यापारी को पुलिस ने कार सहित यूपी बार्डर से बरामद कर लिया। पूछताछ में व्यापारी ने बताया कि गाजियाबाद के तुराबनगर में खोली गई दुकान में घाटा हो गया था और पुत्र को गंभीर बीमारी के चलते चार लाख रुपये का कर्जा हो गया था। पिता से कहा था कि वो किसान क्रेडिट कार्ड बनाकर मुझे पैसे दे दें लेकिन उन्होने मना कर दिया। इस बात से नाराज होकर वह कार लेकर घर से चला गया था। व्यापारी प्रवीण शर्मा ने बताया कि लापता होने के बाद वह यूपी बार्डर पर चल रहे किसान आंदोलन में शामिल हो गया था। व्यापारी को सकुशल पाकर पुलिस व परिजनों ने राहत की सांस ली है।

यह भी पढ़ें: बाइक पर जिंदा गोवंश ले जा रहे गौ-तस्कर को पुलिस ने गाेली मारी

आपको बता दें कि इससे पहले भी थाना कवि नगर इलाके में रहने वाले दो ग्रॉसरी व्यापारी संदिग्ध परिस्थितियों में इसी तरह लापता हुए थे और दोनों ही कर्ज से परेशान होकर खुद ही घर से गए थे। उन्हें भी पुलिस ने बरामद कर लिया था. हालांकि थाना सिहानी गेट इलाके की राज नगर एक्सटेंशन कॉलोनी में रहने वाले एक बिल्डर का कई महीने बीतने के बाद भी पुलिस को कोई सुराग नहीं लगा पाई है।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned