रेलवे में नौकरी लगवाने के नाम ठगी करने वालों का पुलिस ने किया पर्दाफाश, दो अभियुक्त गिरफ्तार

- पुलिस ने इनके कब्जे से तमाम ऐसे कागजात बरामद किए हैं

-जिन्हें यह लोग फर्जी तरह से तैयार किया करते थे और खासतौर से यह लोग महाराष्ट्र की तरफ के लोगों को अपना निशाना बनाया करते थे

गाजियाबाद. जिले की थाना ट्रॉनिका सिटी पुलिस को एक बड़ी कामयाबी उस वक्त हाथ लगी, जब मुखबिर की सूचना पर पुलिस द्वारा रेलवे में नौकरी लगवाने को लेकर मोटी रकम ऐंठने वाले अंतरराष्ट्रीय गैंग का पर्दाफाश करते हुए दो शातिर लोगों को गिरफ्तार किया। पुलिस ने इनके कब्जे से तमाम ऐसे कागजात बरामद किए हैं, जिन्हें यह लोग फर्जी तरह से तैयार किया करते थे और खासतौर से यह लोग महाराष्ट्र की तरफ के लोगों को अपना निशाना बनाया करते थे। पुलिस की मानें तो अभी तक यह गैंग करीब 300 लोगों को अपना शिकार बना चुका है और नौकरी लगवाने के नाम पर हर शख्स से एक लाख रुपए की रकम ऐंठा करता था। पुलिस अभी इनके अन्य साथियों की तलाश में जुटी हुई है। पुलिस का दावा है कि जल्द ही दिन के सभी अन्य साथियों को धर दबोचा जाएगा।


इस पूरे मामले की जानकारी देते हुए गाजियाबाद के एसपी देहात नीरज कुमार जाधव ने बताया कि थाना ट्रॉनिका सिटी पुलिस को मुखबिर की सूचना पर एक बड़ी कामयाबी मिली है। इस दौरान पुलिस ने इस गैंग का पर्दाफाश करते हुए विकार उल उर्फ विक्की पुत्र साबिर अली और सचिन पुत्र अवधेश सक्सेना नाम के दो शातिर अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है। जिनसे पूछताछ में पता चला है कि इनका यह गैंग इसलिए काफी समय से सक्रिय है और खासतौर से महाराष्ट्र की तरफ के लोगों को यह लोग निशाना बनाया करते थे। उन्होंने बताया कि पूछताछ में इनके द्वारा यह भी पता चला है कि अभी तक कुल 300 लोगों को यह लोग अपना शिकार बना चुके हैं और नौकरी लगवाने के नाम पर हर युवक से यह एक लाख रुपए की रकम तय किया करते थे आश्चर्य की बात यह है कि इनके द्वारा जिस शख्स को निशाना बनाया जाता था। उसका बाकायदा मेडिकल कराने के बाद पूरी प्रक्रिया उसी तरह किया करते थे। जिस प्रकार रेलवे में नौकरी लगती है और बाकायदा अपॉइंटमेंट लेटर भी उन्हें दिया करते थे।


एसपी देहात ने बताया कि इस तरह की सूचना थाना ट्रॉनिका सिटी पुलिस को मिली थी कि 1 गैंग इस तरह का सक्रिय है, जो कि रेलवे में नौकरी लगाने के नाम पर लोगों को अपना निशाना बना रहा है। जिस पर कार्रवाई करते हुए पुलिस द्वारा इन 2 लोगों को धर दबोचा गया। जिन्होंने इस पूरे मामले की जानकारी देते हुए अपना जुर्म स्वीकार भी कर लिया है और बताया है कि यह पूरी तरह फर्जी तरह से ही पेपर तैयार किया करते थे।

Ruchi Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned