गजब: सामाजिक संस्था के खाते में आए 200,000 रुपए

गजब: सामाजिक संस्था के खाते में आए 200,000 रुपए
Know where to be sent 500 and 1000 of the old notes..

sandeep tomar | Publish: Dec, 06 2016 05:33:00 PM (IST) Ghaziabad, Uttar Pradesh, India

संस्था के पदाधिकारियों को भी नहीं है जानकारी, डीएम से होगी शिकायत

गाजियाबाद। नोटबंदी लागू होने के बाद में मोदी सरकार द्वारा खोले गए जनधन एकाउंट्स में लाखों की नकदी डाले जाने के मामले हर रोज सामने आ रहे थे। अब हॉट सिटी गाजियाबाद की एक सामाजिक संस्था के एकाउंट में भी दो लाख रुपये डाले गए है। ये रुपया पदाधिकारियों और चार्ट़ड एकाअंटेंट के लिए सिर का दर्द बन गया है। संस्था को डर है कि इसका रिकार्ड न होने पर उनके लिए मुश्किल खड़ी हो सकती है। सूत्रों की मानें तो अपने गले को बचाने के लिए ही सामाजिक संस्था के अध्यक्ष या फिर कोषाध्यक्ष की तरफ से कैश को ट्रांसफर किया गया है।

एकाउंट बंद करने से पहले ही डाला गया कैश

सामाजिक संस्था अखिल भारतीय अग्रवाल सम्मेलन के खाते में किसी ने दो लाख चार हजार रुपए जमा कर दिए। ये रुपए किसने जमा किये, क्यों जमा किये यह कोई बताने को तैयार नहीं हैं। सूत्रों की मानें तो अखिल भारतीय अग्रवाल सम्मेलन के पूर्व में कोषाध्यक्ष रहे नरेश ने ओबीसी बैंक की चिकम्बरपुर साहिबाबाद की शाखा में खाता संख्या 63120110***** को बंद करने के लिए लिखित में सूचित किया था।

नई कार्यकारिणी ने शुरु कराया एकाउंट

यह खाता संस्था का ही है। मगर नई कार्यकारिणी ने नए मिनट जारी कर खाता संचालित करने की सूचना बैंक को दे दी। आठ नवंबर को देश में नोटबंदी की गई। 22 नवंबर को नरेश के मोबाइल फोन पर संस्था के खाते में दो लाख चार हजार रुपए जमा किए जाने का मैसेज आया। उन्होंने बैंक जाकर पैसा जमा करने वाले के बारे में जानना चाहा मगर बैंक ने कोई जानकारी देने से इंकार कर दिया। संस्था के वर्तमान अध्यक्ष सम्म्पत कुमार किल्ला ने भी इस बारे में कुछ नहीं बताया।

जिलाधिकारी से होगी मामले की शिकायत


संस्था के पदाधिकारियों के मुताबिक रुपयों को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है। जिलाधिकारी से पूरे मामले की शिकायत करने की तैयारी कर रहे हैं। जांच किए जाने के बाद में रुपये डाले जाने वाले का पता चल सकेगा।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned