सपा की उठापठक से बसपा को हुआ ये फायदा

सपा की उठापठक से बसपा को हुआ ये फायदा
BSP

sandeep tomar | Publish: Jan, 05 2017 06:00:00 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

सपा में लंबे समय से चल रही रार का फायदा अब विरोधियों को होने लगा है

गाजियाबाद। समाजवादी घमासान में आपसी सुलह की कोशिशों का अब तक भले कोई नतीजा नहीं निकला हो लेकिन इस उठापठक ने पार्टी के लिए मुश्किल खड़ी कर दी है। गाजियाबाद में सपा को इससे खासा नुकसान होने की संभावना है। राजनीतिक पंडितों का भी ऐसा मानना है कि इस घरेलू कलह का सीधा फायदा बसपा को होगा। जनपद के पांचों विधानसभा प्रत्याशियों के बदलाव के बादल भी चुनावी समीकरण को बदलने में अहम भागीदारी निभाएंगे।

राशिद मलिक के अलावा नहीं कोई मजबूत प्रत्याशी

समाजवादी पार्टी ने शहर विधानसभा से डॉ. सागर शर्मा को, साहिबाबाद से वीरेन्द्र यादव,  लोनी से राशिद मलिक, मोदीनगर से रामआसरे इस बार मैदान में उतरे हुए है। सपा की नई लिस्ट के हिसाब से तीन प्रत्याशी सागर, दिशांत और एक अन्य प्रत्याशी के टिकट पर तलवार लटक रही है। ऐसे में राशिद मलिक के सहारे ही पार्टी को एक सीट मिल सकती है।

बसपा के गणित ने कर दिया सपा को बेकरा

समाजवादी पार्टी ने जितने भी प्रत्याशियों को मैदान में उतारा हुआ है। इन सबको ध्यान में रखकर बसपा ने भी अपने पत्ते खोल दिए। सपा को करारी टक्कर देने के लिए उसी तरह के व्यक्ति को टिकट दिया गया जो जिताऊ हो और दूसरे का टिक़ट भी काटे। मसलन लोनी मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र है ऐसे में टिकट उसी बिरादरी से देकर सपा को झटका दिया। गाजियाबाद शहर में वैश्व अधिक है तो सुरेश बंसल को मैदान में उतार दिया।

मुरादनगर प्रत्याशी का आचरण बन सकता है मुद्दा

विरोधी पार्टी सपा के मुरादनगर प्रत्याशी को आचरण के जरिए घेर सकती है। सपा के प्रत्याशी दिशांत त्यागी पर अपराधिक मामले के अलावा अपने ही स्कूल की टीचर के साथ में छेड़छाड़ करने का आरोप लगा था। ऐसे में विरोधियों को मौका मिल गया है वो इसे मुद्दा बनाकर समाजवादी पार्टी को नुकसान पहुंचा सकें।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned