गजब की राजनीति: एक उम्मीदवार सपा व बसपा दोनों का बन गया प्रत्याशी, सपा ने कहा- करेंगे कार्रवार्इ

गजब की राजनीति: एक उम्मीदवार सपा व बसपा दोनों का बन गया प्रत्याशी, सपा ने कहा- करेंगे कार्रवार्इ

Rajkumar Pal | Publish: Oct, 12 2017 05:51:05 PM (IST) Ghaziabad, Uttar Pradesh, India

निकाय चुनाव में खुद को दावेदार बता लगवाए बधाई के होर्डिंग, संगठन ने दी सफाई और कहा- लखनऊ से मिलेगा टिकट, दावेदार पर होगी कानूनी कार्रवाई

गाजियाबाद। नगर निगम चुनाव की अभी घोषणा भी नहीं हुई है, लेकिन चुनाव के मद्देनजर आस्था किस प्रकार बदलती है, इसका जीता जागता उदाहरण है निर्दोष त्यागी, जिसने खुद को नगर निगम के वार्ड 50 से समाजवादी पार्टी का पार्षद प्रत्याशी बताते हुए दीपावली की शुभकामनाओं के होर्डिंग लगाए हैं।

सपा वाले होर्डिंग्स पर इन नेताओं के हैं फोटो

समाजवादी पार्टी के होर्डिंग्स पर पूर्व विधायक सुरेंद्र कुमार मुन्नी और प्रहलाद शर्मा के साथ जेपी कश्यप, वीरेंद्र यादव, राकेश यादव के फोटो लगे हुए हैं। ऐसे में सवाल यह उठता है कि निर्दोष त्यागी को सपा का पार्षद प्रत्याशी किसने घोषित किया है, जबकि अभी तक सपा ने एक भी प्रत्याशी घोषित नहीं किया है। 

fake bsp candidate

कुछ दिन पहले लगाए थे बसपा के होर्डिंग्स

हैरानी की बात यह है कि अभी कुछ दिन पहले तक निर्दोष त्यागी ने वार्ड 50 में मायावती के फोटो के साथ बसपा के होर्डिंग लगवाये थे, जो अब भी लगे हुए हैं। इससे लोगों में यह भ्रम भी पैदा हो रहा है कि निर्दोष त्यागी बसपा में हैं या समाजवादी पार्टी के साथ हैं।

खुद को सपा का प्रत्याशी घोषित करना गलत

समाजवादी पार्टी के महानगर प्रभारी जेपी कश्यप ने बताया कि सपा ने अभी तक किसी को प्रत्याशी घोषित नहीं किया है। निर्दोष त्यागी ने इस प्रकार के होर्डिंग लगाकर गलत किया है। नगर निगम के मेयर, पार्षद, नगर पंचायत व नगर पालिका परिषद के सभी प्रत्याशी लखनऊ से घोषित किए जाएंगे। जिन्हें लखनऊ से मंजूरी मिलेगी, केवल वही पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी होंगे। इसके अलावा किसी को भी खुद को प्रत्याशी घोषित करने का कोई अधिकार नहीं है। अगर कोई खुद को प्रत्याशी घोषित करता है तो वह गैरकानूनी है और उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

यहां गौर करने वाली बात ये है कि नगर निगम चुनाव की तैयारी शुरू हो गई है। इसी के चलते निगम प्रशासन ने सभी वॉर्डों के आरक्षण के लिए अधिसूचना जारी कर दी है। वहीं अब सात दिनों के अंदर लोग अपनी आपत्ति और सुझाव दर्ज करा सकते हैं।

Ad Block is Banned