यूपी गेट पर महिलाओं ने संभाली किसानाें के धरने की कमान

यूपी गेट पर चल रहे किसानों के धरने में अब महिला किसान भी पहुंच गई है। साेमवार काे बड़ी संख्या में यहां महिलाओं ने किसानों ने भी माेर्चा संभाल लिया।

By: shivmani tyagi

Published: 18 Jan 2021, 06:25 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
गाजियाबाद. यूपी गेट पर चल रहे किसानाें के धरने पर साेमवार काे महिलाओं ने भी कमान संभाल ली। यहां पहुंची महिलाओं ने कहा कि वह साेमवार के दिन काे महिला दिवस के रूप में मना रही हैं और यूपी गेट पर किसान आंदोलन मनाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: माइक्रोसॉफ्ट की नौकरी छाेड़ गांव की देशी जमीन में विदेशी सब्जी उगाकर लाखाें कमा रहे चाचा-भतीजे

साेमवार सुबह से ही बड़ी संख्या में दूरदराज की महिला यूपी गेट धरना स्थल पर पहुंची और मंच का संचालन करने से लेकर सड़क पर बैठे किसानों के बीच बड़ी संख्या में महिलाएं मौजूद रही। इन सभी महिलाओं का कहना है कि जब तक महिला किसी आंदोलन में आगे नहीं आती तब तक वह आंदोलन कामयाब नहीं होता। अब इस आंदोलन में महिलाओं ने मोर्चा संभाल लिया है, इसलिए अब यह आंदोलन सफल होकर रहेगा और सरकार को किसानों की सभी बातें माननी होंगी।

यह भी पढ़ें: 'तांडव' को लेकर बवाल, जूना अखाड़े ने कहा- समझाने का वक्त नहीं, ये लोग जहां मिले चाटे मारो

आपको बताते चलें कि पिछले 54 दिन से गाजियाबाद के यूपी गेट बॉर्डर पर बड़ी संख्या में किसान धरने पर बैठे हुए हैं। इन सभी किसानों की मांग है कि हाल में ही जो किसानों के लिए तीन कानून पास किए गए हैं। उन्हें तत्काल प्रभाव से वापस लिया जाए अन्यथा किसान यहां से टस से मस नहीं होंगे हालांकि यह मामला सुप्रीम कोर्ट भी जा पहुंचा है। सुप्रीम कोर्ट के द्वारा साफ तौर पर निर्देश दिए गए हैं कि धरना स्थल से छोटे बच्चे और बुजुर्गों को हटाया जाए यानी उन्हें घर वापस भेज दिया जाए।

यह भी पढ़ें: गोकश को पकड़ने गई पुलिस टीम पर हमला, पथराव और फायरिंग मेें कई सिपाही घायल

लेकिन सोमवार को यूपी गेट पर धरने पर बैठी इन महिलाओं के बीच छोटे बच्चों के साथ-साथ 20 साल की उम्र से 80 साल की उम्र तक की महिलाएं भी नजर आ रही हैं ।बड़ी बात यह है कि अभी तक रोजाना 11 किसान भूख हड़ताल पर बैठते थे लेकिन सोमवार को 21 महिलाएं भूख हड़ताल पर बैठ गई हैं। महिलाओं का कहना है कि आज जिस तरह से बड़ी संख्या में यहां महिलाओं की भागीदारी इस आंदोलन में हुई है यह साफ तौर पर संदेश है कि सरकार को यह कानून वापस लेने होंगे यानी साफ तौर पर उन्होंने कहा कि कानून वापस नहीं तो घर वापस नहीं। जब तक कानून वापस नहीं होता तब तक हम वापस नहीं जाने वाली हैं।।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned