किसान आंदाेलन : गाजीपुर बॉर्डर पर उड़ीसा के कलाकार बना रहे किसानाें की दुर्दशा दिखाती प्रतिमाएं

  • उड़ीसा से आए मूर्तिकार बना रहे गाजीपुर बॉर्जर पर प्रतिमाएं
  • एक महीनें में बनने वाली प्रतिमाएं दिखाएंगी किसानाें का हाल

By: shivmani tyagi

Published: 20 Feb 2021, 10:26 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

गाजियाबाद ( ghazibad news ) किसान आंदोलन को मजबूत करने के लिए तमाम पार्टियां किसानों को अपना समर्थन देने में जुटी हैं। दूर-दराज से लाेग गाजियाबाद पहुंच रहे हैं और किसान आंदाेलन काे अपना समर्थन दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें: Petrol Diesel Price: टूट गए पुराने सभी रिकॉर्ड, पेट्रल 6.77 रुपये मंहगा, डीजल पर भी बढ़े 7.10 रुपये

इसी क्रम में शुक्रवार को तेलंगना बिहार से आया एक प्रतिनिधिमंडल राकेश टिकैत से मिला उन्होंने कहा किसी भी कीमत पर कृषि कानून काे लागू नहीं हाेने देना है। तेलंगाना से पहुंचे सांसद रेवन्त रेडी ने कहा उनके यहां भी कृषि कानूनों का विराेध हाे रहा है। उधर बिहार के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी ने भी कहा वह बिहार में कृषि कानून का लगातार विरोध चल रहा है और जनता दल इसे लागू नहीं होने देगी।

यह भी पढ़ें: गवर्नर के माध्यम से फिर राष्ट्रपति को भेजी जाएगी शबनम की दया याचिका

उड़ीसा से आए मूर्तिकार मुक्ति कांत ने बताया कि वह उड़ीसा से किसानों को समर्थन देने आए हैं। उड़ीसा के किसान भी किसान आंदोलन को अपना पूरा समर्थन देते हैं। बताया कि वह आंदाेलन स्थल पर किसानाें की एक प्रतिमा बना रहे हैं। यह प्रतिमा किसानों की दुर्दशा को दिखाएगी। उन्हाेंने यह भी कहा कि जो हाल में कृषि कानून बनाए गए हैं वह किसानाें के लिए खतरनाक हैं। 17 दिन से वह गाजीपुर बॉर्डर पर हैं और प्रतिमा बना रहे हैं। प्रतिमा के बनने में एक सप्ताह का समय और लगेगा। बाेले कि जब यह प्रतिमा बनकर तैयार हो जाएंगी ताे यह खुद ही दर्शाएंगी कि कानून कितना खतरनाक है।

यह भी पढ़ें: यूपी: अपहरण के बाद चार साल की मासूम से दुष्कर्म

बताया कि यह प्रतिमाएं इस तरह से बनाई जा रही हैं जिन्हे देखकर काेई भी समझ सकेगा कि कृषि कानून किस तरह से किसानाें काे बर्बाद कर देगा।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned