मुकुट और धनुष पूजन के साथ शुरू हुई गाजीपुर की विशेष रामलीला

Varanasi Uttar Pradesh

Publish: Sep, 17 2017 08:26:23 (IST)

Ghazipur, Uttar Pradesh, India
मुकुट और धनुष पूजन के साथ शुरू हुई गाजीपुर की विशेष रामलीला

400 साल से भी पुरानी है गाजीपुर की रामलीला, रामनगर व चित्रकूट की तरह ही कई जगहों पर घूम-घूम कर होता है मंचन

गाजीपुर. मुकुट और धनुष पूजन के साथ गाजीपुर की विशेष रामलीला की शुरूआत हो गई। गाजीपुर की रामलीला का खास महत्व है। यहां की रामलीला 400 साल से भी पुरानी है। साथ ही यहां की रामलीला का मंचन अलग-अलग जगहों पर घूम-घूम कर किया जाता है। घूम-घूम कर रामलीला का मंचन केवल गाजीपुर, रामनगर और चित्रकूट में ही होता है। ये परंपरा शुरू से ही गाजीपुर की रामलीला कमेटी निभा रही है। इस बार की रामलीला का मंचन 19 दिन होगा। इसकी शुरुआत आज मुकुट पूजन के साथ हरिशंकरी पर की गयी। मुकुट पूजन सदर एसडीएम विनय कुमार ने किया और इसी के साथ औपचारिक रुप से रामलीला का प्रारम्भ हो गया।

 

यह भी पढ़ें- आखिर क्यों मनोज सिन्हा को देनी पड़ी पत्रकारों को नसीहत, कहा- नकारात्मक नहीं सकारात्मक लिखें 

 

नगर के हरिशंकरी, पहड़खान का पोखरा, सकलेनाबाद, कौआबड़ी सहित दर्जनों स्थानों पर रामलीला का मंचन होता है। दशहरा के दिन नगर के लंका मैदान में रावण वध किया जाता है। गाजीपुर का रावण भी खास होता है। इस बार का रावण कुछ और खास है क्योंकि ये 70 फीट ऊंचा होगा। इसके बनाने में दो लाख का खर्च आया है, जिसमें की 80 हजार तो सिर्फ उस कारीगर का मेहनताना है जो कि रावण बना रहा है और ये रावण रिमोट से जलाया जायेगा।

 

यह भी पढ़ें- अगर आपने अभी तक नहीं बनवाया है शौचालय तो यह खबर आपके लिए

 

इस संबंध में रामलीला कमेटी के महामंत्री ओम प्रकाश तिवारी उर्फ बच्चा तिवारी ने बताया की गाजीपुर में रामलीला मंचन की परंपरा 400 वर्ष पुरानी है। आज इसी परम्परा को निभाते हुए एकादशी के दिन श्रीराम धनुष और मुकुट पूजन के साथ रामलीला का मंचन शुरू हो गया है जो की लगातार 19 दिनों तक चलेगी। वहीं एसडीएम विनय कुमार ने कहा कि आज धनुष पूजन और मुकुट पूजन के साथ रामलीला का आरम्भ हो गया है। रामलीला मंचन में किसी तरह की समस्या नहीं आने दी जायेगी। इसके लिये जिस तरह की जरूरत होगी उसे पूरी की जायेगी।

by Alok Tripathi

 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned