scriptGhazipur Why is long vermilion applied on Chhath festival end | छठ पर्व पर क्यों लगाया जाता है लंबा सिंदूर? | Patrika News

छठ पर्व पर क्यों लगाया जाता है लंबा सिंदूर?

Chhath festival - उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देकर छठ पर्व का गुरुवार को समापन हो गया। गंगा सहित यूपी की सभी नदियों के घाटों पर छठ पर्व मानने के लिए हजारों की संख्या में श्रद्धालु उमड़े। प्रशासन चुस्त दुरुस्त था, घाटों पर नाव व गोताखोर की टीम तैनात रही। पर छठ पर्व पर व्रती महिलाएं लंबा सिंदूर क्यों लगाती हैं यह सवाल सभी जानना चाहते हैं..

गाजीपुर

Published: November 11, 2021 09:00:51 am

गाजीपुर. long vermilion यूपी में चार दिन से चल रहा छठ पर्व उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देकर सम्पन्न हो गया। इस पर्व का एक बड़ा आकर्षण व्रती महिलाओं का लंबा सिंदूर लगाना होता है। जो व्यक्ति छठ का व्रत नहीं रखते है और छठ पर्व के बारे में नहीं जानते है, उनके मन में यह सवाल कौंधता है कि आखिरकार व्रती महिलाएं इतना लम्बा और आकर्षक सिंदूर क्यों लगतीं हैं?
छठ पर्व पर क्यों लगाया जाता है लंबा सिंदूर?
छठ पर्व पर क्यों लगाया जाता है लंबा सिंदूर?
गाजीपुर सहित यूपी के सभी शहरों में डाला छठ पर्व को धूमधाम से मनया गया। हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाकर भगवान भास्कर को दूध और जल से अर्घ्य दिया। छठ पर्व पर पुत्र व पति की दीर्घायु एवं सुख समृद्धि के लिए सूर्य की उपासना की जाती है। चार दिवसीय सूर्योपासना का पर्व छठ का गुरुवार को सम्पन्न हो गया।
सूर्य का जन्म हुआ था :- गाजीपुर की छठ व्रती महिला सरिता तिवारी ने बताया कि, छठ पर्व, महापर्व माना जाता है और हिंदू धर्म के अनुसार मान्यता यह है कि अगर हम छठ पर्व करते हैं तो हमारे घर परिवार में सुख संपत्ति बनी रहती है और आयु में वृद्धि होती है, आरोग्य प्राप्त होता है । इसलिए हम छठ का महापर्व करते हैं। शाम के समय अस्ताचल सूर्य को हम अर्घ्य देते हैं और सुबह के समय उदयीमान सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। क्योंकि छठ पर्व पर सूर्य शशि का जन्मदिन मनाते हैं। क्योंकि इस दिन सूर्य का जन्म हुआ था ऐसा माना जाता है।
सूर्य देव की दो पत्नियां :- सविता तिवारी ने आगे बताया कि, छठ पर्व ही एक ऐसा दिन है जिसमें हम डूबते हुए सूर्य को भी जल देते हैं, और बाकी समय हम लोग उदयीमान मान सूर्य को जल देते हैं। एक मान्यता यह भी है कि सूर्य देव की दो पत्नियां थी इसलिए सूर्य को अर्घ्य देने के लिए सुबह-शाम का समय छठ पर्व में बनाया गया है।
Chhath Puja 2021 - नहाए-खाए के साथ यूपी में आज से बिखरेगी छठ की छटा

लम्बा सिंदूर लगाने का मतलब :- लम्बा सिंदूर लगाने के बारे में सविता तिवारी बताती हैं कि, इस सिंदूर को जोड़ा सिंदूर कहते हैं। मान्यता यह है कि जोड़ा सिंदूर लगाना शुभ होता है। वैसे छठ पर्व में हर कार्य जोड़ा से किया जाता है। मान्यता है कि मांग में नारंगी या पीला रंग का लंबा सिंदूर भरने से पति की आयु लंबी होती है। कहा जाता है कि विवाहित महिलाओं को सिंदूर लंबा और ऐसा लगाना चाहिए जो सभी को दिखे। ये सिंदूर माथे से शुरू होकर जितनी लंबी मांग हो उतना भरा जाना चाहिए। छठ पर्व में निर्जल व्रत रहा जाता है। इसका मतलब होता है कि अपने आप को तपाना। और सूर्य के प्रति अपने आप को समर्पित करना जिसका परिणाम यह होता है कि हमें सुख समृद्धि प्राप्त होती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

लता मंगेशकर की हालत में सुधार, मंत्री स्मृति ईरानी ने की अफवाह न फैलाने की अपीलAssembly Election 2022: चुनाव आयोग का फैसला, रैली-रोड शो पर जारी रहेगी पाबंदीगोवा में बीजेपी को एक और झटका, पूर्व सीएम लक्ष्मीकांत पारसेकर ने भी दिया इस्तीफाUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारPunjab Election 2022: भगवंत मान का सीएम चन्नी को चैलेंज, दम है तो धुरी सीट से लड़ें चुनावKanimozhi ने जारी किया हिन्दी सब-टाइटल वाला वीडियोIndian Railways News: रेल यात्रियों के लिए अच्छी खबर, 22 महीने बाद लोकल स्पेशल ट्रेनों में इस तारीख से MST होगी बहालएक किस्साः जब बाल ठाकरे ने कह दिया था- मैं महाराष्ट्र का राजा बनूंगा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.