योगी सरकार की कार्रवाईयों से मुख्तार अंसारी के करीबियों में खौफ, कुख्यात बदमाश दिलशाद ने किया सरेंडर

  • भाई मेराज का शूटर भी कहा जाता है दिलशाद खान
  • काफी समय से पुलिस कर रही थी उसकी तलाश

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

गाजीपुर. बाहुबली मुख्तार अंसारी परिवार और उनसे जुड़े लोगों में करीबियों व गैंग से जुड़े लोगों पर लगातार हो रही कार्रवाईयों से दहशत है। कार्रवाई शुरू होने के बाद भूमिगत हो गए करीबियों में खौफ का ये आलम है कि अब मुख्तार के करीबियों ने सरेंडर करना शुरू कर दिया है। इसकी बानगी गाजीपुर में देखने को मिली जहां मुख्तार अंसारी के करीबी कुख्यात बदमाश दिलशाद ने भी गैंगस्टर कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया। दिलशाद गाजीपुर के करीमुद्दीनपुर थाना क्षेत्र के महेन्द गांव का रहने वाला है और काफी दिनों से बिहार में छिपा हुआ था। उसपर गैंगस्टर सहित कई संगीन मामलों में आठ मुकदमे दर्ज हैं।

 


पुलिस की मानें तो दिलशाद खान बागपत जेल में हत्या कर दिये गए कुख्यात अपराधी मुन्ना बजरंगी के खजांची कहे जाने वाले मेराज खां उर्फ भाई मेराज का शूटर है। मेराज के खिलाफ भी असलहा लाइसेंस लेने के लिये फर्जीवाड़ा करने के मामले में मुकदमा दर्ज है, जिसके बाद उसने वाराणसी की एक पुलिस चौकीम सरेंडर कर दिया। अभी हाल ही में प्रशासन ने मेराज की सम्पत्ति का भी ध्वस्तीकरण बनारस में किया है।


बताया जाता है कि दिलशाद खान की तलाश पुलिस को थी। वह बिहार में अपने ससुराल के आस-पास रह रहा था। पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिये महेंद और उसके ठिकानों पर लगातार तलाश कर रही थी। पकड़े न जाने पर उसपर 25 हजार रुपये का ईनाम घोषित कर जगह-जगह पोस्टर भी लगाए जाने लगे। इसके बाद खौफ के चलते उसने गैंगस्टर कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया।


संजय गोंड हत्याकांड में आया था नाम

दिलशाद को भाई मेराज का शूटर भी कहा जाता है। दिलशाद का नाम सबसे पहले 2018 में महेन्द निवासी संजय गोंड की हत्या में आया था। संजय की लाश सोनवानी गांव के सिवान में पायी गयी थी। इस मामले में दिलशाद जेल भी जा चुका है।

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned