नवजात को चुनरी में लपेट गंगा में बहाया, नाविक ने बचाया, बक्से में मिली जन्मकुंडली व भगवान की तस्वीरें

बक्से में मिली मासूम बच्ची को लोगों ने कहा 'गंगा की बेटी'.

By: Abhishek Gupta

Published: 15 Jun 2021, 09:56 PM IST

गाजीपुर. गंगा नदी में बहते एक बक्से के अंदर मिली नवजात बच्ची देख सभी हैरान रह गए। बच्ची जीवित थी। उसे एक नाविक ने बचाया था। सबसे आश्चर्यचकित बात यह थी कि बच्ची बक्से के अंदर लाल चुनरी में लिपटी थी। बक्से में बच्ची के साथ उसकी जन्मपत्री थी व कुछ देवी देवताओं की तस्वीर थी। इसे देख कई लोग बच्ची को 'गंगा की बेटी' कह रहे हैं। तो वहीं कुछ लोग इसे तंत्र मंत्र के मामले से जोड़कर देख रहे हैं। बहरहाल, बच्ची को नाविक उसकी देखभर के लिए अपने घर ले गया, लेकिन जब पुलिस को इसका पता चला, तो वह बच्ची को घर से कोतवाली ले आई।

रविवार को कोतवाली थानान्तर्गत गंगा नदी के किनारे, ददरीघाट निवासी गुल्लू चौधरी मल्लाह को गंगा में बहता एक लकड़ी का डिब्बा मिला। जब उन्होंने उसे खोलकर देखा तो उसमें एक सुंदर सी नवजात बच्ची रो रही थी, जो चुनरी से लिपटी हुई थी और चारों तरफ से उस बक्से में देवी देवताओं की तस्वीर लगी हुई थी। पेशे से नाविक गुल्लू चौधरी उसे आनन-फानन में लेकर घर आए। इस दौरान कुछ लोगों ने अपने मोबाइल से उसकी तस्वीर भी बना ली। सूचना पाकर मंगलवार को कोतवाली पुलिस गुल्लू चौधरी के घर पहुंची और नवजात बच्ची को कोतवाली ले आई।

ये भी पढ़ें- खेलते-खेलते गड्डे में गिरा मासूम, मौत

गुल्ली का परिवार पालना चाहता है बच्ची को-

गुल्लू चौधरी और उनका परिवार उस नवजात बच्ची को गंगा जी की अमानत समझ कर उसे पालने की जिद पर अड़ गए। गुल्लू चौधरी की बहन सोनी ने बताया कि कल उनके भाई को यह नवजात बच्ची गंगा नदी के तट पर एक बक्से में मिली थी। वह चुनरी में लपेटी हुई थी। बक्से में देवी माता की तस्वीरें और बाकायदा बच्ची की जन्मपत्री भी रखी मिली। उन्होंने बताया कि जन्मपत्री के अनुसार उसका नामकरण गंगा है और जन्म की तारीख 25 मई है। यानी आज वो मात्र तीन हफ्ते की हुई है। चूंकि कल और आज बारिश भी हो रही थी, इसलिए उसे हम लोग पहले घर लाए, हम लोग गंगा मैया का आशीर्वाद समझकर उसे पालना चाहते हैं और किसी को देना नहीं चाहते, लेकिन आज दिन में कोतवाली पुलिस आकर उसे अपने साथ ले गई है।

ये भी पढ़ें- घर से नाराज होकर भागी नाबालिग, ई-रिक्शा चालक ने दोस्तों संग किया गैंगरेप

तंत्र मंत्र की भी आशंका-

प्रथम दृष्टया यह मामला तंत्र मंत्र और साधना से जुड़ा हुआ लगता है, क्योंकि लड़की के साथ पूजा सामग्री और उसकी कुंडली में गंगा नाम लिखा थी। साथ ही जन्म की तारीख 25 मई 2021 बताई गई है। इससे यह भी पता चलता है कि कैसे आज भी लोग अंधविश्वासी हैं। तांत्रिक अनुष्ठान को पूरा करने के लिए नवजात शिशुओं को गंगा में जीवित बहाकर कर वे अपनी सिद्धि प्राप्ति का अमानवीय तरीका अपनाते हैं। आज के सभ्य समाज में लोग इसे मात्र अंधविश्वास और रूढ़िवादी मानते हैं।

परिजनों की तलाश की जा रही-
फिलहाल नवजात बच्ची को कोतवाली पुलिस गुल्लू चौधरी के घर से कोतवाली लाई है और उसकी मेडिकल जांच करा रही है। कोतवाली पुलिस अभी कुछ नहीं बता रही। बच्ची किसके पास रहेगी, लेकिन कोतवाली सूत्रों की माने तो बच्ची की मेडिकल जांच कराकर उसके परिजनों की तलाश भी की जा रही है, अन्यथा ये बच्ची किसी को लिखा पढ़ी में सुपुर्द की जाएगी। फिलहाल गंगा में मिली नवजात काफी चर्चा में है।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned