पीडब्लयूडी में सरकारी राशि का गबन, 5.84 लाख का फर्जी भुगतान

 पीडब्लयूडी में सरकारी राशि का गबन, 5.84 लाख का फर्जी भुगतान
Scam

रिकॉर्ड भी किया गया गायब, आरटीआई से हुआ खुलासा

गाजीपुर. लोक निर्माण विभाग जहां कागज पर सड़क बनाकर लाखों- करोड़ों का वारा न्यारा कर रहा है,  वहीं उसके विभागीय कर्मचारी भी घोटाला करने में कहीं पीछे नहीं हैं। ऐसा ही एक मामला आया है, जिसमें विभाग को चौकीदार को 2009 से 2012 के बीच डबल वेतन के साथ ही कई अन्य मदों का करीब 5.84 लाख का फर्जी भुगतान कर दिया गया साथ ही अपनी गर्दन बचाने के लिये इस दौरान के सारे रिकार्ड भी गायब कर दिये गये। ये कारनामा करने वाले कर्मचारी रिटायर भी हो चुके हैं वहीं खुलासे के बाद  अब विभाग अपने कर्मचारियों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराने की बात कर रहा है।


यह भी पढ़ें: बालू खनन के विरोध में ग्रामीणों का संघर्ष, चले पत्थर, तीन पुलिसकर्मी घायल



इस बात का खुलासा उस समय हुआ जब विभाग के ही टर्मिनेटेड कर्मचारी गिरिजा राय ने सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगी।  प्राप्त जानकारी के अनुसार रामजन्म चौकीदार के खाते में 1-12-2009 से 10-1-2012 के मध्य तक रूपया 5.84 लाख डाला गया जो अन्य कर्मचारियों के देय से सम्बंधित है।











यह पूरा मामला सरकारी धन के गबन का है जिसके सम्बंध में विभाग को 24 फरवरी 2016 को चौकीदार के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने और तत्कालीन मुख्य लिपिक कैशियर और अधिष्ठान लिपिक के विरूद्ध आरोप पत्र जारी करने की बात कही गयी थी, लेकिन विभाग के उच्चाधिकारियों ने कैशियर और लिपिक को बचाने के लिये इस मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया और उक्त अवधि के सारे रिकार्ड गायब करा दिये। फिलहाल कैशियर और लिपिक जब सेवानिवृत्त हो चुके हैं तब मुकदमा दर्ज कराने की कार्रवाई की गयी है।
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned