स्वरोजगार कर लोगों के लिए प्रेरणा बनी ये महिलाएं, कर रही मोदी के सपनों को साकार

Sarveshwari Mishra

Publish: Jan, 14 2018 12:54:32 (IST) | Updated: Jan, 14 2018 12:59:38 (IST)

Varanasi, Uttar Pradesh, India

गाजीपुर. मोदी सरकार महिलाओं को स्वावलम्बी बनाने और स्वरोजगार से जोड़ने के लिए कई योजनाएं चला रही है। लेकिन ऐसा कम हो रहा है कि इन योजनाओं से महिलाएं लाभान्वित हों। जिसे लेकर कुछ महिलाएं पीएम मोदी के सपने को साकार कर रहीं हैं। गाजीपुर की 14 महिलाएं पुरुष के साथ कंधा से कंधा मिलाकर चल रहीं हैं। वह भी राष्ट्रीय आजीविका मिशन से जुड़कर। इस संस्था का उददेश्य ग्रामीण गरीब परिवारों को देश की मुख्यधारा से जोड़ना और विभिन्न कार्यक्रमों के जरिए उनकी गरीबी दूर करना है।

 

 

बता दें कि राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (एनआरएलएम) के तहत सरकार गरीब और बेरोजगार महिलाओं को स्वरोजगार के लिए मदद देती है। गाजीपुर के मुहम्मदाबाद की 14 महिलाओं ने इस योजना के तहत अपना एक समूह बनाया और मुहम्मदाबाद ब्लॉक परिसर में प्रेरणा कैंटीन चला रही हैं। इससे वो खुद स्वावलम्बी तो बनी ही अपने परिवार की आजीविका भी चला रहीं हैं।

 

 

पीएम मोदी की पहल पर केन्द्र सरकार ने राष्ट्रीय आजीविका मिशन योजना स्वरोजगार के साथ महिलाओं को इस योजना में प्राथमिकता दी जाती है। इसी योजना के तहत मुहम्मदाबाद ब्लॉक के मलिकपुर गांव की गरीब तबके की 14 महिलाओं ने मिलकर पहले एक समूह बनाया और 100-100 रूपया चंदा लगाकर 6 महीने में 15 हजार रूपया इकट्ठा किया। इसके बाद जिलाधिकारी ने इस राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत इन महिलाओं को कुछ फंड दिया और फिर अस्तित्व में आई प्रेरणा कैंटीन।

 


खुद तैयार करती है कैंटीन में खाने का सामान
इस कैंटीन में बिकने वाला समोसा , चाय, मिठाई ये सारी चीजें ये महिलाएं खुद तैयार करती हैं। अब धीरे-धीरे इस कैंटीन में लोगों की भीड़ भी दिखने लगी है। समूह की अध्यक्ष मीना ने बताया कि ग्राम प्रधान ने हमें इस योजना की जानकारी दी और इस योजना के तहत हम 14 महिलाओं ने मिलकर एक समूह बनाया और 6 महीने में पैसा इकट्ठा किया और फिर जिलाधिकारी के सहयोग से हमने इस कैंटीन का संचालन शुरू किया।

 


जिलाधिकारी ने इस योजना के बारे में बताते हुए कहा कि ये केन्द्र और राज्य सरकार के सहयोग से चलने वाली वित्तपोषित एनआरएलएम योजना है जिसमें हम महिलाओं का समूह बनाते हैं और उनको रिवाल्विंग फंड उपलब्ध कराते हैं और बैंक के माध्यम से उनको लोन भी दिया जाता है। इसी योजना का तहत मुहम्मदाबाद में प्रेरणा कैंटीन खोली गई है। इस पहल से लोगों को प्रेरणा भी मिल रही है।
ये एक अच्छी पहल है और इससे अन्य लोगों को प्रेरणा मिलेगी इसलिये इनको पूरी मदद दी जायेगी।

 

जिलाधिकारी,गाजीपुर एफवीओ- यदि ये कहा जाये कि इन 14 महिलाओं द्वारा संचालित प्रेरणा कैण्टीन प्रधानमंत्री मोदी के सपनों को साकार करने के पहल की एक शुरूआत है तो गलत नहीं होगा। निश्चित रूप से इस तरह की पहल से ग्रामीण महिलाएं भ रोजगार ?र की ओर अग्रसर होंगीं और आत्मनिर्भर हो सकेंगी। इन महिलाओं के चेहरे पर आत्मविश्वास की जो झलक देखने को मिल रही है उससे कहीं न कहीं प्रधानमंत्री के भी चेहरे पर मुस्कान आएगी। प्रधानमंत्री मोदी के सपनों को साकार करने के पहल की एक शुरूआत है तो गलत नहीं होगा। निश्चित रूप से इस तरह की पहल से ग्रामीण महिलाएं भी रोजगार की ओर अग्रसर होंगीं और आत्मनिर्भर हो सकेंगी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned