पेंशन लेने बैंक पहुंची तिजिया से मैनेजर ने कहा- तुम मर चुकी हो, जिंदा होने का सबूत लाओ पैसे ले जाओ

सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार महिला की तीन साल पहले मौत हो चुकी है, अचानक जब महिला बैंक पहुंची तो अधिकारियों ने...

By: Akhilesh Tripathi

Published: 18 Aug 2017, 06:19 PM IST

Ghazipur, Uttar Pradesh, India

गाजीपुर. बैंक कर्मचारियों की लापरवाही की वजह से महिला अपने पेंशन के लिए दर- दर की ठोकर खाने को मजबूर है । सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार महिला की तीन साल पहले मौत हो चुकी है, जब महिला बैंक पहुंची तो इस मामले का खुलासा हुआ । दोनों आंखों से अंधी महिला तिजिया देवी सदर तहसील के रसूलपुर बेलवां गांव की रहने वाली है ।

सरकारी कर्मचारियों की घोर लापरवाही का नजारा गाजीपुर जनपद के रसूलपुर बेलवां गांव में देखने को मिल रहा, जहां कि एक नेत्रहीन महिला को सरकारी रिकार्ड में मृत घोषित कर दिया गया और बेहद गरीब ये महिला पिछले तीन वर्षों से अपनी पेंशन के लिये दर-दर भटक रही है। तीजिया पांच वर्ष की उम्र में अंधी हो गयी थी और जब वो 18 वर्ष की हुई तो कागजी कार्रवाई के बाद उसे पेंशन मिलना प्रारम्भ हुआ और कुछ दिनों तक उसकी पेंशन आयी पर अचानक तीन साल पूर्व उसकी पेंशन सरकार द्वारा बंद कर दी गयी।

जब तीजिया को पता चला तो वो अपने पिता के साथ काशी गोमती संयुक्त ग्रामीण बैंक की शाखा में पहुंची जहां उसकी पेंशन आता था तो वहां उसे बताया गया कि तुम तो मर चुकी हो तुम्हें पेंशन नहीं मिल सकता। घटना के बाद तीजिया देवी और उसका परिवार उसके बाद पहले तो सरकारी विभागों के बार बार चक्कर लगाया पर वो सरकारी रिकार्ड में जीवित नहीं हो पायी। सीडीओ से भी यह परिवार मिला और उन्होंने आश्वासन दिया कि तीजिया परिवार वालों के साथ कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं से भी मिली पर इससे भी वो रिकार्ड में जीवित नहीं हो पायी।

सामजिक कार्यकर्ता गुल्लू यादव ने बताया कि तीजिया की पेंशन और उसको रिकॉर्ड में जिन्दा करने के लिये हमने काफी प्रयास किया और लगभग सभी अधिकारियों से इसकी शिकायत की पर तीजिया जिन्दा न हो सकी। सरकारी विभाग की घोर लापरवाही की वजह से गरीब तीजिया जहां भूखमरी के कगार पर है वहीं जिला प्रशासन का रूख भी इस मामले को लेकर ढ़ीला ही नजर आ रहा है ।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned