बेरहमी से लोगों को मारने वाली नक्सली एरिया कमांडर गिरफ्तार, सिर पर था लाखों का इनाम

इस महिला नक्सली पर सरकार की ओर से 2 लाख रुपए का नगद इनाम रखा गया था (CPI Maoist's Area Commander Naxalite Suneeta Arrested In Giridih) (Jharkhand News) (Giridih News)...

 

By: Prateek

Updated: 24 Jul 2020, 07:40 PM IST

गिरिडीह: पुलिस और सीआरपीएफ की संयुक्त टीम ने शुक्रवार को बड़ी सफलता हासिल की है। प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी की एरिया कमांडर को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस महिला नक्सली पर सरकार की ओर से 2 लाख रुपए का नगद इनाम रखा गया था। वह कईं मामलों में वांछित थी।

यह भी पढ़ें: Israel की मदद से सांस के जरिए संक्रमण का लगेगा पता, 30 सेकेंड में होगा कोरोना टेस्ट

गुप्त सूचना मिलने के बाद सुरक्षाबलों ने झारखंड के गिरिडीह जिले के गम्हरा गांव से उसे गिरफ्तार किया है। गिरिडीह एसपी अमित रेणू ने जानकारी देते हुए बताया कि भाकपा माओवादी की एरिया कमांडर सुनीता उर्फ कौशल्या उर्फ रमा गम्हरा गांव के जंगली क्षेत्र में अन्य साथियों के साथ किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए बैठक करने वाली थी।

यह भी पढ़ें: Hyderabad: एक साथ जलाए गए 50 corona मरीजों के शव, VIDEO VIRAL होने के बाद लोगों का फूटा गुस्सा

 

इसके बाद एक विशेष टीम गठित की गई। जंगल में सर्च अभियान चलाया गया तो एक संदिग्ध महिला जवानों को अपनी ओर आता देख भागने लगी। थोड़ी दूर तक उसका पीछा करने के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया। पूछताछ में उसने कबूला कि वह एरिया कमांडर सुनीता है। वह बोकारो के चतरोपट्टी थाना क्षेत्र के चेतेखरना गांव की रहने वाली है। उसके पति का नाम संतोष महतो उर्फ संजय महतो उर्फ बासुदेव है। बकौल सुनीता वह साल 2000 से नक्सली गतिविधियों में सक्रिय है। पहले वह गिरफ्तार सक्रिय नक्सली नवीन मांझी दस्ते की प्रमुख सदस्य थी। नवीन मांझी की गिरफ्तार के बाद वह संतोष महतो उर्फ संजय महतो के टीम में शामिल हुई। वर्तमान में वो झुमरा, कसमार और पारसनाथ एरिया में काम कर रही थी।

यह भी पढ़ें: Sushant Singh की मौत के लिए CBI जांच पर बोलें Shekhar Suman, परिवार खुलकर सामने नहीं आ रहा है!

हार्डकोर नक्सली महिला गिरिडीह के पारसनाथ पहाड़ी क्षेत्र में 2008 में हुई मुठभेड़ में भी मौजूद थी। वर्ष 2010 में पीरटांड थाना क्षेत्र के पुरनानगर गांव से करीब एक किलोमीटर उत्तर गिरिडीह-डुमरी मुख्य मार्ग पर स्थित पुल को बारुदी सुरंग लगाकर एसआईएस के वाहन को विस्फोट कर उड़ा दिया था। विस्फोट में पांच सिक्योरिटी गार्ड मारे गए थे। इसके अलावा वह मुखबिरों की हत्या, मुठभेड़ और आगजनी सहित कई मामलों में शामिल रही हैं। उसके खिलाफ बोकारो में नौ और गिरिडीह के अलग-अलग थाना में चार मामले दर्ज हैं।

ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

Show More
Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned