प्रसिद्ध जैन तीर्थस्थल सम्मेद शिखर में फंसे हैं सैकड़ों श्रद्धालु, कई के प्रियजनों का हुआ निधन

लॉकडाउन में कई पर्यटकों के प्रियजनों का हुआ निधन, अंतिम दर्शन भी नहीं कर (Jain Devotees Stuck In Shikhar Giridih Jharkhand During Lockdown) पाये...

 

By: Prateek

Published: 30 Apr 2020, 09:34 PM IST

(गिरिडीह): लॉकडाउन के कारण झारखंड के गिरिडीह जिले में सैकडों तीर्थ यात्री फंसे हुए हैं। जैनियों के विश्व प्रसिद्ध तीर्थस्थल सम्मेद शिखर दर्शन के लिए लगभग डेढ़-दो माह पूर्व पहुंचे 250 तीर्थयात्री यहीं पर फंसे हुए हैं। लॉकडाउन में फंसे पर्यटकों के कई परिजनों का निधन भी इस अवधि में हो गया, लेकिन वे अपने प्रियजनों का अंतिम दर्शन भी नहीं कर पाए।

 

यहां के लोग लॉकडाउन के बाद फंसे...

सम्मेद शिखर में फंसे अधिकांश धार्मिक पर्यटक कर्नाटक, महाराष्ट्र, त्रिपुरा समेत कई राज्यों के निवासी हैं। इन यात्रियों को अब अपने घर की चिंता सता रही है। मधुबन में इन यात्रियों को रहने और खाने की व्यवस्था तलेट तीर्थ 20पंथी जैसी संस्था कर रही है। मधुवन में जो यात्री फंसे वे घर की चिंता से व्याकुल हैं, किसी के भाई तो किसी की मां का निधन हो गया है, लेकिन वे इस विपदा की घड़ी में भी अपने घर नहीं जा सके।


श्रद्धालुओं ने बताई अपनी पीड़ा...

महाराष्ट्र के बेलगाम से आए अन्ना साहेब दुग्गे ने बताया कि वे मधुबन दर्शन को आए थे, इस बीच लॉकडाउन हो गया और वे फंस गए। इस दौरान 29 मार्च को गांव में उसके डॉक्टर भाई श्रीकांत सताप दुग्गे का निधन हो गया। इस घटना का उन्हें बहुत दुख है, सबसे ज्यादा इस बात का दुख है कि वे अपने भाई को अंतिम बार देख नहीं सके। इसी तरह एक यात्री मल्लपा ने बताया कि उसकी मां विद्या का निधन गांव में हो गया और वह घर नहीं जा सके। लॉकडाउन में फंसे यात्रियों के पास अब पैसे भी खत्म हो गए हैं। उनके पास अब खाने तक के लिए पैसे नहीं हैं, ऐसे में जैन संस्था इन यात्रियों की मदद के लिए आगे आए हैं। इधर इन यात्रियों की सेवा कर रहे सुमन सिन्हा, बीसपंथी संस्था के मैनेजर एएस अन्नदाते कहते हैं कि यात्रियों को किसी प्रकार का कष्ट नहीं होने दिया जा रहा है।

Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned