भाजपा विधायक ने यूपी पुलिस पर लगाए गंभीर आरोप, कहा- सरकार की छवि हो रही खराब

अपनी सरकार में अधिकारियों की कार्यशैली से नाराज भाजपा विधायक ने पुलिस प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाते हुए अपनी नाराजगी जताई।

By: shatrughan gupta

Published: 26 Oct 2017, 09:46 PM IST

गोंडा. उत्तर प्रदेश सरकार की मंशा है कि समाज भयमुक्त हो और अपराधी जेल में हों, लेकिन शायद गोंंडा में ऐसा नहीं हो रहा है। अपनी सरकार में अधिकारियों की कार्यशैली से नाराज सदर विधायक ने पुलिस प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाते हुए अपनी नाराजगी जताई। भाजपा से सदर विधायक का मानना है कि पुलिसिया कार्यशैली से प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार की छवि खराब हो रही है। वाहन चेकिंग के नाम पर आमजनों का उत्पीडऩ किया जा रहा है।

अपराधी खुलेआम घुम रहे हैं, जनता हो रही परेशान

भाजपा के सदर विधायक प्रतीक भूषण सिंह द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि अब थानों पर भ्रष्टाचार नियंत्रण से बाहर है। जिले में विगत 10 अक्टूबर को हुई ५० लाख रुपए की दिन दहाड़े बैंक डकैती के नाम पर आस-पास के क्षेत्र से दर्जन भर निर्दोष लोगों को प्रतिदिन हिरासत में लिया जाता है। उनका आर्थिक शोषण करने के बाद उन्हें छोड़ दिया जाता है। बैंक डकैती के दो सप्ताह बाद भी अभियुक्त पुलिस की गिरफ्त से दूर हंै। उन्होंने कहा कि धन तेरस व दीपावली के दिन भी वाहन चेकिंग के नाम पर खुलेआम आम लोगों से वसूली की गई। केवल वाहन चेकिंग से अपराधियों का पकड़ा जाना संभव नहीं है। इससे आमजन का उत्पीडऩ हो रहा है। निर्दोष लोगों का पुलिस द्वारा उत्पीडऩ किए जाने से सरकार की छवि खराब हो रही है। यही नहीं, पुलिस प्रशासन की मौन सहमति से नरायनपुर ईधा, नरायनपुर बली, रामनगर तरहर, दरियापुर में अवैध खनन का कारोबार बेरोकटोक जारी है। हद तो तब हो गई, जब नगर पालिका क्षेत्र में टेम्पो, रिक्शा और ठेलेवालों तक से पुलिस अवैध वसूली करके अस्थायी अनुमति देकर नगर में भीषण जाम पैदा कर रही है, जिससे आम लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

कार्रवाई के लिए तैयार रहें अफस

सदर विधायक प्रतीक भूषण ने कहा कि जिले में पुलिस के संरक्षण में करीब सैकड़ों गांव में अवैध कच्ची शराब की भ_ियां पिछली सरकारों की भांति निरंतर चल रही है, जिससे प्रतिवर्ष सरकार को लाखों रुपए के राजस्व की हानि उठानी पड़ रही है। वहीं, जहरीली शराब पीने से तमाम गृहस्तियां भी उजड़ चुकी हैं। संगीन अपराधों में वांटेड अपराधी पुलिस की पकड़ से बाहर हंै। बीते दिनों कनर्लगंज कलेक्ट्रेट परिसर, एलबीएस चैराहा मनकापुर व मोतीगंज में हुई लूट का खुलासा अभी तक पुलिस नहीं कर सकी है। ऐसे संगीन अपराधों के लिए विधायक और मुख्यमंत्री जिम्मेदार नहीं हैं। यदि गोंडा जनपद के पुलिस के आला अधिकारियों ने ईमानदारी से काम किया होता तो आज कानून व्यवस्था पर सवाल खड़ा न होता। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी कानून व्यवस्था में सुधार नहीं लाते हैं तो उन्हें गंभीर प्रशासनिक कार्रवाई के लिए तैयार रहना चाहिए।

shatrughan gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned