scriptBusiness affected by strike of employees of central trade unions | केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के कर्मचारियों की हड़ताल से प्रभावित रहा कारोबार, केंद्र सरकार पर जमकर बरसे कर्मचारी जाने क्या है मांग | Patrika News

केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के कर्मचारियों की हड़ताल से प्रभावित रहा कारोबार, केंद्र सरकार पर जमकर बरसे कर्मचारी जाने क्या है मांग

गोंडा केंद्रीय ट्रेड यूनियनों कर्मचारियों व फेडरेशनों के संयुक्त आवाहन पर केंद्र सरकार की श्रम विरोधी नीतियों के खिलाफ दो दिवसीय अखिल भारतीय हड़ताल के दूसरे दिन गांधी पार्क से रैली निकालकर नारेबाजी करते हुए उपश्रमायुक्त कार्यालय पर जनसभा कर राष्ट्रपति को संबोधित मांग पत्र श्रम प्रवर्तन अधिकारी को सौंपा।

गोंडा

Published: March 29, 2022 06:10:57 pm

किसान मजदूर संघर्ष समन्वय समिति द्वारा गांधी पार्क गोंडा में यूपीएमएसआरए, बिजली कर्मचारी संघ, आंगनवाड़ी आशा रसोइया कर्मचारी यूनियन, पोस्टल ईंपलाईज यूनियन, लोक निर्माण, जीवन बीमा, रेलवे ठेका मजदूर यूनियन, भवन निर्माण यूनियन, सीआईटीयू, एटक , इंटक ,एचएमएस सहित अन्य यूनियनों कर्मचारियों के साथी रैली निकाल कर केंद्र व राज्य सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों के खिलाफ नारे लगाते हुए उप श्रमायुक्त कार्यालय देवीपाटन मंडल परिसर में आयोजित धरना प्रदर्शन कर जनसभा की अध्यक्षता सत्य नारायण तिवारी, मीनाक्षी खरे, अमेरिका यादव, इंदू सिंह, सत्य प्रकाश पांडेय, संतोष शुक्ला, राम कृपाल यादव की कमेटी ने किया। सभा का संचालन कामरेड दिलीप शुक्ला ने किया।
img-20220329-wa0004.jpg
केंद्र सरकार लेबर कोड व रक्षा आवश्यक अधिनियम रद्द करें

जनसभा को संबोधित करते हुए सीआईटीयू राज्य कमेटी सदस्य कामरेड कौशलेंद्र पांडेय ने कहा कि केंद्र सरकार को जनता और मजदूरों के हित में चारो लेबर कोड व रक्षा आवश्यक सेवा अधिनियम को रद्द करना चाहिए। बिजली संशोधन बिल 2021 को खत्म किया जाना चाहिए। कामरेड इंदू सिंह ने कहा कि आशा रसोइया आंगनवाडी कर्मचारियों को राज्य कर्मचारी का दर्जा दिया जाये क्योंकि केंद्र सरकार ने 2014 में सत्ता में आने के बाद अपने वादे से मुकर गई है। बिजली कर्मचारियों के उत्पीड़न तथा बिजली विभाग के निजीकरण के खिलाफ सरकार की आलोचना करते हुए राम कृपाल यादव कहा कि बिजली को निजी हाथों में देने से प्रति यूनिट बिजली का दाम बढ़ेगा जिससे जनता के ऊपर मंहगाई का नया भार पड़ेगा। यूपीएमएसआरए से रवींद्र सिंह व रोबी गांगुली ने कहा कि दवाओं के दामों बढ़ोत्तरी होने से जनता अब नई परेशानी पड़ेगी। केंद्र सरकार को स्वास्थ्य बजट को 5% जीडीपी का करना चाहिए। ममता तिवारी ने कहा कि संयुक्त संघर्ष और संयुक्त आंदोलन तेज करना होगा तभी ये सरकार हमें हमारा अधिकार देगी। सभा को पोस्टल ईंपलाईज यूनियन से सत्य प्रकाश पांडेय ने संबोधित करते हुए कहा कि बैंक, बीमा, रेलवे सहित तमाम सार्वजनिक उपक्रमों को निजी हाथों में केंद्र सरकार बेच रही जिससे सरकार की पूंजीपतियों से सांठगांठ उजागर हो गया है। सभा को श्रीमती संजीव पांडेय, राज कुमार मिश्रा, ईश्वर शरण शुक्ल, आद्या तिवारी, आदि ने संबोधित किया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी केसः बहस पूरी, 1991 का वर्शिप एक्ट लागू होगा या नहीं, कल होगा फैसला, जानें सुनवाई से जुड़ी हर बातबीजेपी नेता किरीट सोमैया की पत्नी ने शिवसेना के संजय राउत के खिलाफ दर्ज कराया 100 करोड़ का मानहानि का मुकदमालैंड होते ही झटके से रूक गया यात्री विमान, सांस थामे बैठे रहे यात्रीजम्मू और कश्मीर: आतंकियों के निशाने पर सुरक्षा बल, श्रीनगर में जारी किया गया रेड अलर्टजापान में पीएम मोदी का जोरदार स्वागत, टोक्यो में जापानी उद्योगपतियों से की मुलाकातऑक्सफैम ने कहा- कोविड महामारी ने हर 30 घंटे में बनाया एक नया अरबपति, गरीबी को लेकर जताया चौंकाने वाला अनुमानसंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजरबिहार में पटरियों पर धरना-प्रदर्शन के चलते 23 ट्रेनें रद्द, 40 डायवर्ट की गईं
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.