scriptCorona New Variant Omicron Guideline for Gonda District Court | कोरोना के नए वेरिएंट को लेकर बढी सतर्कता हाई कोर्ट ने दिए ये निर्देश | Patrika News

कोरोना के नए वेरिएंट को लेकर बढी सतर्कता हाई कोर्ट ने दिए ये निर्देश

गोंडा देशभर में फैल रहे कोरोना के नए वेरिएंट को लेकर हाईकोर्ट ने नई दिशा निर्देश जारी किए हैं। अब अदालतों के न्यायालय कक्ष में एक समय में अधिकतम दस की संख्या में ही अधिवक्ता, पक्षकार उपस्थित रह पाएंगे। वकीलों के लिए उचित दूरी के साथ मात्र छह कुर्सियों की व्यवस्था की जाएगी। केवल ऐसे अधिवक्ताओं को, जिनका केस किसी विशेष तिथि को सूचीबद्ध है। उन्हें न्यायालय कक्ष में प्रवेश की अनुमति मिलेगी। बहस पूरी होते ही अधिवक्ताओं को न्यायालय कक्ष, परिसर से बाहर निकलना होगा।

गोंडा

Published: January 05, 2022 06:50:38 pm

उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जनरल द्वारा सभी न्यायालयों के पीठासीन अधिकारियों को जारी यह दिशा निर्देश तीन जनवरी 2022 से अग्रिम आदेश तक प्रभावी हो गया है। जिसके क्रम में जिला जज डा. दीपक स्वरुप सक्सेना ने सम्बन्धित अधिकारियों और अधीनस्थ न्यायालयों के पीठासीन अधिकारियों को अनुपालन के आदेश दिए हैं।
कोरोना मामलों के दृष्टिगत बढ़ोत्तरी एवं ओमीक्रान के बढ़ते केसेज को ध्यान में रखते हुए उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जनरल आशीष गर्ग द्वारा जारी पत्र में कहा गया है कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय के अधीनस्थ सभी न्यायालयों के पीठासीन अधिकारी यह सुनिश्चित करने के लिए सभी संभव कदम उठाएंगे कि शारीरिक दूरी के दिशा-निर्देशों का सख्ती से अनुपालन करने के लिए अदालत की कार्यवाही के लिए कोर्ट रूम में एक बार में अधिकतम संख्या में पक्ष, वकील जो संख्या में 10 से अधिक न हों। न्यायालय कक्ष में उचित दूरी के साथ अधिवक्ताओं के लिए छह कुर्सियों की व्यवस्था की जाएगी। इसके अलावा, पीठासीन अधिकारी के पास न्यायालय कक्ष में या उन बिंदुओं पर व्यक्तियों के प्रवेश को प्रतिबंधित करने की शक्ति होगी जहां से अधिवक्ताओं द्वारा बहस की जाती है। उन्होंने कहा है कि न्यायालय खुलने से पहले चिकित्सा दिशानिर्देशों के अनुसार परिसर का सैनिटाइजेशन कराया जाएगा। जिला न्यायाधीश जिला मजिस्ट्रेट, अन्य प्रशासनिक अधिकारियों और सीएमओ, सीएमएस की मदद से पूरे कोर्ट परिसर की पूरी सफाई, सफाई सुनिश्चित करेंगे। जिला अधिकारी प्रतिदिन कोर्ट परिसर का सैनिटाइजेशन सुनिश्चित करेंगे। जिला मजिस्ट्रेट व मुख्य चिकित्साधिकारी की मदद से न्यायालय परिसर में प्रवेश करने वाले सभी व्यक्तियों की थर्मल स्कैनिंग जांच भी सुनिश्चित की जाएगी। कोर्ट परिसर के साथ-साथ कोर्ट रूम में प्रवेश करने वाले प्रत्येक व्यक्ति द्वारा मास्क का सख्ती से उपयोग किया जाएगा। कोर्ट रूम के दरवाजे पर सैनिटाइजर की व्यवस्था की जाए और रीडर, क्लर्क आदि सोशल डिस्टेंसिंग के दिशा-निर्देशों का पूरी तरह से पालन करेंगे। न्यायालयों के कामकाज के सम्बन्ध में तंत्र, तौर-तरीकों के लिए बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों के साथ चर्चा कर न्यायालय कक्षों, परिसरों में अधिवक्ताओं के प्रवेश को प्रतिबंधित, विनियमित करने के लिए आवश्यक कार्यवाही की जाए।
उच्च न्यायलय द्वारा जारी दिशा निर्देश के अनुसार, न्यायिक अधिकारियों, अधिवक्ताओं द्वारा की गई मांग के मामले में वर्चुअल कोर्ट की सुविधा का उपयोग न्यायालय के कामकाज के लिए किया जा सकता है। न्यायिक सेवा केंद्र (केन्द्रीकृत फाइलिंग काउंटर) या किसी अन्य उपयुक्त स्थान को नए मामलों, आवेदनों (सिविल, आपराधिक) या किसी अन्य आवेदन को प्राप्त करने, एकत्र करने के लिए चिन्हित किया जाना चाहिए। ऐसे सभी मामले, आवेदन सीआईएस में पंजीकृत किए जाएंगे। आवेदनों में उनके मोबाइल नंबरों सहित अधिवक्ता, वादकारियों का विवरण दर्ज किया जाएगा। यदि उसमें कोई तृटि है तो संबंधित अधिवक्ता को सूचित किया जा सकता है। इसके बाद ऐसे आवेदनों को सौंपे गए संबंधित न्यायालय के समक्ष रखा जाएगा। पक्षकारों द्वारा लिखित तर्क न्यायिक सेवा केन्द्र में भी प्रस्तुत किए जा सकते हैं, जिसे कंप्यूटर अनुभाग द्वारा सम्बन्धित न्यायालय को भेजा जाएगा। जिला न्यायाधीश, प्रधान न्यायाधीश परिवार न्यायालय, पीठासीन अधिकारी वाणिज्यिक न्यायालय, भूमि अधिग्रहण, पुनर्वास और पुनर्वास प्राधिकरण, मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण सम्बन्धित न्यायिक पक्ष में इलाहाबाद में सर्वोच्च न्यायालय, न्यायिक उच्च न्यायालय व एच आई के संबंध में केन्द्र सरकार और राज्य सरकार द्वारा जारी सभी दिशा निर्देश का अनुपालन करेंगे। यदि जिला प्रशासन, सीएमओ की यह राय है कि जिला, बाहरी न्यायालय परिसर को कोरोना महामारी की स्थिति के कारण एक विशेष अवधि के लिए बंद किया जाना चाहिए, तो जिला न्यायालय बाहरी न्यायालय को उक्त अवधि के लिए बंद किया जाएगा। विशिष्ट कारणों का उल्लेख करते हुए सूचना इलाहाबाद उच्च न्यायालय को भेजा जाएगा।
ऑमिक्रॉन अब तक दर्ज किया गया सबसे संक्रामक वायरस है
ऑमिक्रॉन अब तक दर्ज किया गया सबसे संक्रामक वायरस है,ऑमिक्रॉन अब तक दर्ज किया गया सबसे संक्रामक वायरस है,ऑमिक्रॉन अब तक दर्ज किया गया सबसे संक्रामक वायरस है

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Health Tips: रोजाना बादाम खाने के कई फायदे , जानिए इसे खाने का सही तरीकाCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतSchool Holidays in January 2022: साल के पहले महीने में इतने दिन बंद रहेंगे स्कूल, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालVideo: राजस्थान में 28 जनवरी तक शीतलहर का पहरा, तीखे होंगे सर्दी के तेवर, गिरेगा तापमानJhalawar News : ऐसा क्या हुआ कि गुस्से में प्रधानाचार्य ने चबाया व्याख्याता का पंजामां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतAaj Ka Rashifal - 24 January 2022: कुंभ राशि वालों की व्यापारिक उन्नति होगीMaruti की इस सस्ती 7-सीटर कार के दीवाने हुएं लोग, कंपनी ने बेच दी 1 लाख से ज्यादा यूनिट्स, कीमत 4.53 लाख रुपये

बड़ी खबरें

Punjab Election 2022: गठबंधन के तहत BJP 65 सीटों पर लड़ेगी चुनाव, जानिए कैप्टन की PLC और ढींढसा को क्या मिलाराष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के विजेताओं से पीएम मोदी ने किया संवाद, 'वोकल फॉर लोकल' के लिए मांगी बच्चों की मददब्रेंडन टेलर का खुलासा, इंडियन बिजनेसमैन ने किया ब्लैकमेल; लेनी पड़ी ड्रग्ससंसद में फिर फूटा कोरोना बम, बजट सत्र से पहले सभापति नायडू समेत अब तक 875 कर्मचारी संक्रमितकर्नाटक में कोविड के 50 हजार नए मामले आने के बाद भी सरकार ने हटाया वीकेंड कर्फ्यू, जानिए क्या बोले सीएमकोरोना से ठीक होने के बाद ऐसे रखें अपने सेहत है ख्यालUP election 2022 - सपा ने जारी की विधानसभा प्रत्याशियों की सूचीएनएफएसयू का साइबर डिफेंस सेंटर अब आईएसओ-आईसी प्रमाणित, बनी देश की पहली लैब
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.