फल, फूल, मिर्च मशालों व मधुमक्खी पालन से सुधरेगी किसानों की सेहत

फल, फूल, मिर्च मशालों व मधुमक्खी पालन से सुधरेगी किसानों की सेहत
Farmers income will increase

Shatrudhan Gupta | Publish: Sep, 26 2017 11:09:33 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

उद्यान विभाग 20 एचपी के टैªक्टर की खरीद पर देगा 25 प्रतिशत अनुदान। विभिन्न योजनाओं में विभाग को मिला 90 लाख का बजट।

गोण्डा. उद्यान विभाग ने किसानों की सेहत सुधारने के लिए विभिन्न योजनाओं में अनुदान का पिटारा खोल दिया है। अब किसान फल, फूल, मिर्च मशाले, साग भाजी सहित मधुमक्खी पालन कर अपनी बिगड़ी हुई सेहत सुधार सकते है। जिले में औधानिक खेती को बढ़ावा देने के लिए उद्यान विभाग को विभिन्न योजनाओं में करीब 90 लाख का बजट विभाग को मिला है। इनमें फलों में केला के लिए 75 हेक्टर व लीची 15 हेक्टर में लगाई जायेगी। केला के लिए प्रति हेक्टर 30 हजार 738 रुपये तथा लीची के लिए 8400 सौ रुपये अनुदान दिया जायेगा। उल्लेखनीय रहे कि उद्यान विभाग केवल बीज व पौध पर अनुदान देता है, शेष लागत किसानों को स्वयं वहन करनी पड़ती है।

केले का लक्ष्य विभाग ने पूरा कर लिया है। अब जिन किसानों का इसमें चयन किया गया है। वे विभाग में बिल प्रस्तुत कर अनुदान का लाभ ले सकते है। वहीं फूलों की खेती में ग्लेडुलस के लिए सात हेक्टर, गेदा के लिए दस हेक्टर का क्षेत्रफल निर्धारित किया गया है। इनमें ग्लेडुलस की खेती में लघु सीमान्त किसानों के लिए साठ हजार रुपये प्रति हेक्टर तथा बड़े किसानों के लिए 37 हजार पांच सौ रुपये प्रतिहेक्टर अनुदान दिया जायेगा। वहीं गेंदा की खेती 10 हेक्टर लघु एवं सीमान्त किसानों को दस रुपये प्रति हेक्टर तथा बड़े किसानों के लिए 4 हेक्टर का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इनको 3750 रुपये प्रति हेक्टर अनुदान मिलेगा। मिर्च मशालों में क्रमशः शंकर मिर्च 24 हेक्टर, शंकर प्याज 20 हेक्टर, लहसुन 42 हेक्टर इन सभी पर 12 हजार रुपये प्रति हेक्टर किसानों को अनुदान दिया जायेगा तथा शाक भाजी में लता किस्म की सब्जियों में शंकर लौकी, तरोई, खीरा, करेला, एवं 13 हेक्टर शंकर पात गोभी, फूल गोभी 18 हेक्टर, टमाटर 26 हेक्टर का लक्ष्य निर्धारित है। इनमें प्रति हेक्टर 30 हजार रुपये किसानों को अनुदान दिया जायेगा।

ऐसे होगा मधुमक्खी पालन
उद्यान विभाग को जिले में मधुमक्खी पालन के लिए 4 युनिट का लक्ष्य मिला है। बताया जाता है कि मधुमक्खी पालन के लिए एक यूनिट की स्थापना पर करीब 2 लाख 25 हजार की लागत आती है, जिसमें विभाग से 88 हजार रुपये अनुदान के रूप पालक को तीन किस्तो में दिये जायेंगे। इनमें क्रमशः हनी बी कालोनी के लिए 40 हजार हनी बी हाइप के लिए 40 हजार तथा हनी स्टेªक्चर फार फ्रेम कन्टेनर 30 के.जी. के लिए 8 हजार रुपये दिया जायेगा।

20 एचपी की टैªक्टर खरीद पर भी मिलेगा अनुदान
उद्यान विभाग ने पहली बार किसानों को 20 हार्स पावर के टैªक्टर की खरीद पर पच्चीस प्रतिशत का अनुदान यानी तीन लाख के टैªक्टर की खरीद पर 75 हजार रुपये का अनुदान मिलेगा। इसके लिए जिले को 10 टैªक्टर का लक्ष्य मिला है।

पहले आओ पहले पाओ
उद्यान विभाग की सभी योजनाये किसानों को पहले आओ पहले पाओ की तर्ज पर अनुदान मिलेगा। इसके लिए किसानों को आधार कार्ड, खतौनी, पासपोर्ट साइज की दो फोटो व बैंक पास बुक के साथ आनलाइन रजिस्टेªशन कराकर उसकी हार्ड कापी विभाग में जमा करनी होगी।

90 लाख का बजट प्राप्त हुआ
इस सम्बन्ध में जिला उद्यान अधिकारी/प्रभारी उप निदेशक महेश कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि गोण्डा जिले को विभिन्न योजनाओं में 90 लाख का बजट प्राप्त हुआ है। फलों में केले की खेती का लक्ष्य पूरा हो गया है। अधिकांश किसानों ने विभाग को बिल वाउचर भी प्रेषित कर दिया है। अब उनके खाते में अनुदान की राशि भेजने की की कार्यवाही की जा रही है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned