script डीआईओएस बोले- बच्चों को संस्कार बनाने के साथ-साथ उनके रुचि के अनुसार दे शिक्षा | Gonda Children they should also give education per their interest | Patrika News

डीआईओएस बोले- बच्चों को संस्कार बनाने के साथ-साथ उनके रुचि के अनुसार दे शिक्षा

locationगोंडाPublished: Dec 12, 2023 04:45:53 pm

Submitted by:

Mahendra Tiwari

एक पब्लिक स्कूल में वार्षिक उत्सव कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जिला विद्यालय निरीक्षक ने बच्चों और अभिभावकों को कई अहम जानकारी दी।

20231212_164119.jpg
सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करते बच्चे
एक पब्लिक स्कूल में वार्षिक उत्सव कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में दीप प्रज्वलित और सरस्वती जी के चित्र पर माल्या अर्पण कर डीआईओएस ने कार्यक्रम का शुभारंभ किया। कार्यक्रम में मौजूद अभिभावक और बच्चों को संबोधित करते हुए डीआईओएस राकेश कुमार ने कहा कि बच्चों की सबसे पहली पाठशाला उनके माता-पिता होते हैं। ऐसे में अपने बच्चों को संस्कारवान बनाने के साथ-साथ उनकी रुचि के अनुसार उन्हें शिक्षा दें।
गोंडा जिले के शहर स्थित केसीआईटी पब्लिक स्कूल के वार्षिक उत्सव कार्यक्रम में बच्चों ने स्वागत गीत और विभिन्न कार्यक्रम प्रस्तुत कर लोगों को मंत्र मुक्त कर दिया।

कार्यक्रम में प्रमुख रुप से देश भक्ति,बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ,नाटक,गद्दी लेकर,राजस्थानी पंजाबी गीत और नृत्य न आदि गीतों ने लोगो का मन मोह लिया। वही युद्ध मे शहीद हुए सैनिक का शव में ताबूत में लाने पर कार्यक्रम में मौजूद लोगो के आंखों आंसू आ गये। लोग रोने को मजबूर हो गए।
शिक्षक बच्चों को शिक्षा देने में कोई कोताही न बरते

सेवानिवृत्त सैनिक शिव बचन यादव ने लोगो को देश भक्ति गीत से सराबोर कर दिया। जबकि भारत पाकिस्तान के युद्ध मे कारगिल के योद्धा विजय सिंह कारगिल ने बच्चो के शिक्षा पर जोर देते हुए कहा माताएं बच्चो को संस्कारवान बनाये और पिता जज्बाती बनाये। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए परियोजना निदेशक चन्द्र शेखर ने बच्चो के सांस्कृतिक कार्यक्रम पर बचपना याद करते हुए कहा पहले और आज में काफी अंतर है। आज के बच्चे हर क्षेत्र में बहुत आगे हो गए है।वहीं जिला विज्ञान क्लब की कोआर्डिनेटर और लाल बहादुर शास्त्री महाविद्यालय की असिस्टेंट प्रोफेसर रेखा शर्मा ने सांस्कृतिक कार्यक्रम की सराहना करते हुए कहा आज के बच्चे कल के भविष्य है। इन्ही बच्चो पर देश और समाज का विकास निर्भर है। इसलिये इन बच्चों माता पिता और शिक्षक अच्छी शिक्षा देने में कोई कोर कसर न छोड़े। श्रीमती शर्मा ने महिला शक्ति पर विस्तार से बताया। कार्यक्रम का संचालन मनू श्रीवास्तव,प्राचार्य अंकिता श्रीवास्तव,अंजली,माला आदि शिक्षिकाओं ने कार्यक्रम सम्पन्न कराया। विद्यालय के निदेशक कमलेश पटेल ने बताया विद्यालय के प्ले से लेकर कक्षा आठ तक 167 बच्चो ने प्रतिभाग किया। रेखा शर्मा ने प्रतिभाग करने वाले बच्चों को मेडल देकर सम्मानित किया,जबकि विद्यालय ने अतिथियों को स्मृति चिन्ह और अंग वस्त्र देकर सम्मानित किया।

ट्रेंडिंग वीडियो