scriptgonda news | बेरोजगारी महंगाई किसानों के फसल का दाम कैंसर बन चुका राजनीति में इसका डॉक्टर ढूंढना होगा : प्रवीण तोगड़िया | Patrika News

बेरोजगारी महंगाई किसानों के फसल का दाम कैंसर बन चुका राजनीति में इसका डॉक्टर ढूंढना होगा : प्रवीण तोगड़िया

गोंडा राम मंदिर जमीन खरीद में जो गलती हुई है। उसका उत्तर जिम्मेदारों को देना चाहिए। अगर गलती हुई तो माफी मांगनी चाहिए मैं होता तो ऐसा ना होता। लोगों ने अपने खून पसीने की कमाई राम मंदिर के लिए दिए हैं। साथ ही साथ अपने बेटों की कुर्बानी दी है। मंदिर बनाने वाले बंदे इस कुर्बानी का सम्मान करें। यह बात किसी के समझ में नहीं आती कि 1 मिनट में दो करोड़ की जमीन 18 करोड़ की कैसे हो गई। यह रहस्य समझाएं यह लोगों के श्रद्धा व पसीने का पैसा है।

गोंडा

Published: December 01, 2021 09:09:25 pm

उन्होंने कहा कि भारत की राजनीति का बहुत तेजी से हिंदू करण हुआ है। मेरा मानना है चुनाव में महंगाई बेरोजगारी महिलाओं की सुरक्षा किसानों के फसल का उचित दाम इस पर चर्चा होनी चाहिए। इस पर लोगों को मन बनाना चाहिए। ममता बनर्जी कभी हिंदू विरोधी मानी जाती थी। अब वह मंच से चंडी का पाठ करती हैं। हमारे राहुल भैया जनेऊ दिखाकर कश्मीरी पंडित बन अपने पुरखों को याद कर रहे हैं। अखिलेश मथुरा के विकास की बात कर रहे हैं। इसलिए मुझे कहना पड़ रहा है कि राजनीति का तेजी से हिंदू करण हो रहा है। इस स्थिति में लोगों को रोजगार कैसे मिलेगा। महंगाई कैसे कम होगी। सुरक्षा कैसे होगी, किसानों को उनकी फसल का उचित दाम कैसे मिलेगा। अब तो हिंदुत्व में सब प्रतिस्पर्धा करने लगे हैं। जब एक करते थे दूसरा विरोध करता था। तब मुझे चिंता होती थी। मुझे तो अब आनंद आ रहा है। राहुल गांधी कहते मैं सबसे बड़ा हिंदू अखिलेश कहते हैं कि हम से बड़ा कोई हनुमान भक्त नहीं योगी कहते हैं राम का सबसे बड़ा भक्त मैं हूं। वर्तमान समय में महंगाई बेरोजगारी किसानों के फसल का दाम सबसे बड़ा कैंसर बन चुका है। मुझे अब राजनीति में इसका डॉक्टर ढूंढना होगा। पत्रकारों द्वारा जिन्ना पर किए गए सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि उनका नाम लेने वालों को मैंने पार्टी के अध्यक्ष पद से हटवा कर इस्तीफा दिलवाया था। कहा कि मुझे राजनीति की समझ होती तो मैं प्रधानमंत्री बन गया होता।
togadia_5745334_835x547-m.jpeg

राम मंदिर निर्माण के लिए जिन कारसेवकों ने बलिदान दिया प्रांगण में उनका स्मारक बने

प्रवीण तोगड़िया ने कहा राम मंदिर बनाने का श्रेय संपूर्ण हिंदू समाज बलिदानी कारसेवक और उनका नेतृत्व करने वाले 4 महान पुरुष इनमें अशोक सिंघल, गोरख पीठाधीश्वर महंत अवैद्यनाथ, रामचंद्र परमहंस, बाला साहब ठाकरे चार लोगों का नेतृत्व ना होता तो राम मंदिर का निर्माण परिणाम तक ना जाता। कहां की राम मंदिर निर्माण के लिए जिन कारसेवकों ने बलिदान दिया। राम मंदिर के प्रांगण में उनका स्मारक बनाया जाए ताकि राम का दर्शन करने वाले लोग उन्हें प्रणाम करके तब जाएं। सरदार पटेल ने जब सोमनाथ का मंदिर बनवाया तो मंदिर के लिए बलिदान देने वाले हमीर सिंह गोहिल का मंदिर के प्रांगण में स्मारक बनवाया। यदि ऐसा करें तो राम मंदिर का निर्माण सम्मान के साथ बनाया गया। ऐसा माना जाएगा।
मथुरा काशी में भव्य मंदिर बनवा दो प्रवीण तोगड़िया आप की जय जयकार करेगा.
प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि जब तक काशी में नंदी बैठा है। उनके सामने काशी विश्वनाथ का भव्य मंदिर नहीं बनता है। तब तक काशी में सारे उत्सव अधूरे हैं। जब तक मथुरा में कृष्ण जन्म भूमि पर भव्य मंदिर का निर्माण नहीं होता है। तब तक महाभारत की रचना कर धर्म की संसस्थापना करने वाले कृष्ण का भारत में सम्मान है। हम नहीं मानते अब तो क्या है संसद में एक कानून बनाकर 24 घंटे के अंदर मंदिर बनाया जा सकता है। ट्रिपल तलाक का कानून बना क्या बाबा काशी विश्वनाथ व कृष्ण बड़े हैं या फिर मुसलमान की बीवियां काशी मथुरा में मंदिर बना दो हिंदुओं को रोजगार दे दो प्रवीण तोगड़िया आपकी जय-जय कार के लिए निकलेगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयशरीयत पर हाईकोर्ट का अहम आदेश, काजी के फैसलों पर कही ये बातUP Election 2022: आगरा कैंट सीट से चुनाव लड़ेंगी एक ट्रांसजेंडर, डोर-टू-डोर अभियान शुरूछत्तीसगढ़ में 24 घंटे में 19 मरीजों की मौत, जनवरी में ये आंकड़ा सबसे ज्यादा, इधर तेजी से बढ़ रही एक्टिव मरीजों की संख्यागणतंत्र दिवस को लेकर कितनी पुख्ता राजधानी में सुरक्षा? हॉटस्पॉट्स पर खास सिस्टम से होगी निगरानीUttar Pradesh Assembly Elections 2022: ...तो क्या सूबे की सुरक्षित सीटें तय करेंगी कौन होगा यूपी का शहंशाहUttar Pradesh Assembly Elections 2022: शह और मात के खेल में डिजिटल घमासान, कौन कितने पानी में
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.