scriptGonda news Queen had made Vrindavan in sagar ponds | खंडहर में तब्दील हो गई प्रेम की निशानी, जाने गोंडा के वृन्दावन का इतिहास | Patrika News

खंडहर में तब्दील हो गई प्रेम की निशानी, जाने गोंडा के वृन्दावन का इतिहास

locationगोंडाPublished: Nov 25, 2022 06:02:20 pm

Submitted by:

Mahendra Tiwari

गोंडा में मथुरा वृंदावन की तर्ज पर गोंडा नरेश गुमान सिंह की पत्नी रानी भगवंत कुंवरि ने राजा को रिझाने के लिए सगरा तालाब के बीचो बीच टापू में काल्पनिक वृंदावन का निर्माण कराया था। प्रेम की अनूठी निशानी धीरे-धीरे खंडहर में तब्दील हो गई।

सगरा तालाब
सगरा तालाब
गोंडा शहर स्थित सागर तालाब का निर्माण 18 वीं शताब्दी में गोंडा नरेश शिव प्रसाद सिंह ने कराया था। वह कृष्ण के अनन्य भक्त थे और तालाब के समीप भव्य मंदिरों का भी निर्माण कराया था। बाद में राजा गुमान सिंह की पत्नी रानी भगवंत कुंवरि ने इसे काल्पनिक वृंदावन का रूप दे दिया।
राजा मथुरा वृंदावन में रुक ना जाएं इसलिए रानी ने बनवाया काल्पनिक वृंदावन

राजा गुमान सिंह कृष्ण के भक्त थे। वह मथुरा वृंदावन दर्शन के लिए गए थे। वहां का मनमोहक दृश्य उन्हें भा गया और वह वहीं अपने गुरु और सखी के पास रुक कर गुरु की सेवा करते रहे। जब वह लौटने को तैयार नहीं हुये तब रानी भगवंत कुंवरि ने गोंडा में भी मथुरा-वृंदावन जैसा एक वृंदावन स्थापित करने का वचन दिया। बाद में रानी भगवंत कुंवरि ने सागर तालाब के बीच में एक टापू पर गोर्वधन पर्वत, कृष्ण कुंज, श्याम सदन, गोपाल बरसाना आदि का निर्माण कराया। ये सब आज भी सागर तालाब के बीचों बीच खण्डहर के रूप में विद्यमान हैं।
सगरा तालाब के बीचो बीच स्थित काल्पनिक वृंदावन
सगरा तालाब के बीचो बीच स्थित काल्पनिक वृंदावन IMAGE CREDIT: Patrika original
गोंडा नरेश देवी भगत सिंह के शासनकाल तक काल्पनिक वृंदावन दर्शनीय स्थल रहा

गोंडा नरेश महाराजा देवी बख्श सिंह के शासनकाल तक सागर तालाब और काल्पनिक वृंदावन दर्शनीय स्थल रहा किन्तु उनके नेपाल जाने के बाद इस अद्भुत निर्माण की दुर्गति शुरू हो गई और देखरेख के अभाव में धीरे-धीरे यह खण्डहर में तब्दील होता गया। आजादी के बाद भी इसके संरक्षण का कोई खास प्रयास नहीं किया गया।
सगरा तालाब के पास बने मंदिर
सगरा तालाब के पास बने मंदिर IMAGE CREDIT: Patrika original
सगरा तालाब और काल्पनिक वृंदावन सुंदरीकरण के लिए शुरू हुई पहल रही बेनतीजा

सगरा तालाब और काल्पनिक वृंदावन के सुंदरीकरण के लिए तत्कालीन जिलाधिकारी राम बहादुर उनके बाद मारकंडेय सिंह और रोशन जैकब ने पहल किया थोड़ा बहुत काम भी हुआ। लेकिन इनकी स्थानांतरण के बाद काम पूरी तरह से ठप हो गया। ऐसे में सुंदरीकरण के लिए की गई पहल बेनतीजा रही।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

महाराष्ट्र: बल्लारशाह रेलवे स्टेशन पर फुटओवर ब्रिज का हिस्सा गिरा, 20 यात्री घायल, 8 की हालत गंभीरGujarat Elections 2022: PM मोदी का कांग्रेस पर निशाना, कहा- देश में चरम पर था आतंकवादश्रद्धा मर्डर केस: सोमवार को आफताब के नार्को टेस्ट के लिए FSL में तैयारी, जानिए तिहाड़ में कैसे गुजरी पहली रातराजस्थान में बैकफुट पर कांग्रेस, पार्टी में फूट का डर, गहलोत खेमा शांत, पायलट समर्थक मुखरकेजरीवाल का बड़ा दावा! बोले- लिख कर देता हूं गुजरात में बन रही AAP की सरकारBJP का केजरीवाल पर हमला, संबित पात्रा बोले, सत्येंद्र जैन के लिए जेल में रखे गए हैं 10 लोगपूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सहारनपुर दो दिवसीय दौरे पर, कई कार्यक्रमों में करेंगे शिरकतमन की बात में पीएम मोदी ने कहा, जी-20 की अध्यक्षता मिलना गौरव की बात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.