हाइटेंशन तार बने आफत, बच्चे समेत कई झुलसे, विद्युत विभाग नहीं ले रहा संज्ञान

हाइटेंशन तार बने आफत, बच्चे समेत कई झुलसे, विद्युत विभाग नहीं ले रहा संज्ञान
Electrification

Abhishek Gupta | Updated: 26 Jan 2018, 09:06:54 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

लोग एक घटना के बारे में चर्चा कर ही रहे थे कि आज यह दूसरी घटना भी सामने आ गई।

गोंडा. आये दिन हाई टेंशन तारों के गिरने से बड़ी घटनाएं सामने आ रही है। ऐसी ही घटना आज कटरा क्षेत्र में घटी जिसमें हाइटेंशन तार गिरने से तीन लोग झुलस गए, एक बकरी मारी गयी तथा एक मड़हे में आग लग गयी, हालांकि कोई जान नहीं गयी। घायलों को अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। आपको बता दें कि एक दिन पूर्व ही एक विद्दुत पोल पर विद्दुत ठीक करते समय एक संविदाकर्मी विद्दुत से झुलस कर घायल हो गया जिसे अस्पताल में भर्ती कराया। लोग इस घटना के बारे में चर्चा कर ही रहे थे कि आज यह दूसरी घटना भी सामने आ गई।

कैसे हुई घटना

कटरा बाजार के एक गांव में ग्यारह हजार की हाइटेंशन विद्दुत तार टूट कर गिरने से ग्राम प्रधान के पौत्र समेत दो अन्य घायल हो गए। जिन्हें निजी चिकित्सालय गोंडा में भर्ती कराया गया है। बताया गया कि कटुआ नाला के ग्राम प्रधान जहुरा बेगम के आवास के सामने सायं अचानक ग्यारह हजार हाइटेंसन बिजली का तार गिरने से प्रधान पौत्र दिलसाद पुत्र तार बाबू चपेट में आ गया, जिन्हें बचाने के लिय प्रधान की पुत्री रुकसाना व गुलसाना दौड़ी, लेकिन वह भी चपेट में आ गयी। इन्हें काफी प्रयास के बाद किसी तरह से बिजली से छुडाया जा सका। रुकसाना व गुलसाना का स्थानीय चिकित्सकों द्वारा इलाज कराया गया, परन्तु दिलशाद को गम्भीर रुप से घायल अवस्था में निजी चिकित्सालय में भर्ती कराया गया। वहीं एक बकरी घटनास्थल पर ही झुलस कर मर गयी।

ग्रामीणों का कहना है कि पोल गाड़ते समय विरोध किया गया था, परन्तु ठेकेदार द्वारा जबरिया पोल गाड़ दिया गया था, जिससे ग्रामीणों मे काफी आक्रोश रहा। काश यह हाइटेंशन की लाइन गांव के बाहर से होकर जाती तो यह घटना घटित नहीं होती।

विभाग यहां कर रहा लापरवाही-
विद्दुत विभाग लाइन तो खींच देता है, लेकिन विद्दुत तार नीचे जमीन पर न गिरे इसके लिये कोई कदम नहीं उठाता है। जैसे सड़कों के ऊपर घरों के ऊपर व गांव के ऊपर से लाइन तो जाची है, लेकिन तार नीचे न गिरे इसके लिये जाल नहीं लगाए गए हैं।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned