मुस्लिम परिवार ने 6 दिन बाद ही बदल दिया बच्चे का नाम, नरेन्द्र मोदी से किया यह

मुस्लिम परिवार ने 6 दिन बाद ही बदल दिया बच्चे का नाम, नरेन्द्र मोदी से किया यह

Neeraj Patel | Publish: May, 29 2019 06:32:40 PM (IST) | Updated: May, 30 2019 04:15:27 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

नजीतों के दिन पैदा हुए बच्चे का बदला नाम

23 मई को जन्मे बच्चे की जन्मतिथि के लेकर विवाद हुआ शुरू

गोंडा. लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी की जीत से उत्साहित एक मुस्लिम महिला ने 23 मई को जन्मे अपने बच्चे का नाम प्रधानमंत्री के नाम पर रख दिया। मुस्लिम समाज में यह पहली बार हुआ कि किसी ने पीएम मोदी के नाम पर अपने बच्चे का नाम रखा हो। महिला के इस फैसले की खूब सराहना हुई। हिंदू व मुस्लिम के बीच और बेहतर रिश्ते के लिए इस कदम को एक मजबूत कड़ी के रूप में भी देखा गया, लेकिन 6 दिन बाद फिर वही हुआ जिसकी आशंका थी। समाज के डर से महिला ने अपने बच्चे का नाम बदल दिया।

समाज के डर से बदला नाम

लोकसभा चुनाव परिणाम के दिन 23 मई को पैदा हुए बच्चे की मां मैनज बेगम ने बताया कि उन्होंने अपने समाज के डर से बच्चे का नाम फिर से बदलकर मोहम्मद अल्ताफ़ आलम मोदी रख दिया है। मैनज बेगम का कहना है कि मोदी के नाम पर बच्चे का नाम रखने पर उसके समाज के लोग काफी नाराज थे और उन पर नाम बदलने का दवाब बना रहे थे। इसलिए अब बच्चे को मोहम्मद अल्ताफ़ आलम मोदी के नाम से पुकारने की बात कही जा रही है।

12 मई बताई जा रही है बच्चे की जन्मतिथि

लोकसभा चुनाव के परिणाम के दिन मुस्लिम परिवार में जन्मे बच्चे का नाम नरेंद्र दामोदर दास मोदी रखा गया था। लेकिन महिला ने समाज के डर से अपने बच्चे का फिर से नाम बदलकर मोहम्मद अल्ताफ़ आलम मोदी रख दिया हैं। वहीं अब बच्चे की जन्मतिथि को लेकर विवाद होना शुरू हो गया है। अब बच्चे की जन्म की तारीख 12 मई बताई जा रही है जबकि बच्चे की मां ने कहा है कि मैंने 23 मई को एक बच्चे को जन्म दिया था। जब बच्चे का नाम रखने की बात आई तो उसने बच्चे का नाम नरेंद्र दामोदर दास मोदी रखने की जिद पकड़ ली थी। जिससे ससुराल वाले चौंक भी गए थे। कई कोशिशों के बाद उसके ससुर ने मंजूरी दे दी। यहां तक कि दुबई में नौकरी कर रहे प्रसूता के पति ने भी बच्चे का नाम नरेंद्र दामोदर दास मोदी रखने की इजाजत दे दी।

डाक्टर ने बताई सही जन्मतिथि

23 मई को पैदा हुए बच्चे का फिर से नाम बदलने को लेकर अब बच्चे की जन्म की तारीख को लेकर विवाद शुरू हो गया है। कुछ लोगों का कहना है कि बच्चे का जन्म 12 मई को हुआ है लेकिन महिला का कहना है कि बच्चे का जन्म 23 मई को हुआ है। इस पर डॉक्टरों का भी कहना है कि नवजात बच्चे का जन्म 23 मई को नहीं बल्कि 12 मई को हुआ था। महिला ने गलत हलफनामा लगवाकर ब्लाक में नाम रखने का आवेदन किया है। यह बच्चा 12 मई को दिन में 12 बजे के आसपास पैदा हुआ था. लोकप्रियता के लिए 23 मई बताकर बच्चे का नाम नरेंद्र दामोदर दास मोदी रखा था। अब महिला बच्चे का नाम बदलना समाज का डर बता रही है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned