खाद्यान्न गोदाम में पड़ा छापा, तो 50 लाख से ज्यादा बोरी सरकारी खाद्यान्न हुई बरामद

निजी गोदाम में घोटाले की बात आई सामने

By: Mahendra Pratap

Published: 28 May 2018, 01:30 PM IST

गोडा. एक ओर जनता भ्रष्टाचार मुक्त देश की बात कर रही है, तो वहीं दूसरी ओर कई जगहों पर बड़े पैमाने पर घोटाले पर घोटाले हो रहे हैं। गोंडा के बंधवा के कोदई बगिया में एक निजी गोदाम में सरकारी खाद्यान्न घोटाले के बारे में पता लगा है। विधायक तरबगज और उप जिलाधिकारी के नेतृत्व में तमाम अधिकारियों की मौजूदगी में पड़े छापे में हजारों बोरी सरकारी खाद्यान्न बरामद हुआ है।

छापे में मिली ये चीजें

विधायक तरबगंज प्रेमनारायण पांडेय, उपजिलाधिकारी सौरभ भट्ट, सीओ कृष्णचंद्र सिंह, तहसीलदार श्याम कुमार, जिला पूर्ती अधिकारी राजीव कुमार और डिप्टी आरएम अजय विक्रम के नेतृत्व में टीम ने जब खाद्यान्न गोदाम पर छापा मारा, तो वहां हजारों बोरी में चावल खुले मिले। गोदाम में एक ट्‌रक से गेहूं उतारा जा रहा था। छापा मारने पर बोरा सिलने की दो मशीन, भारी मात्रा में सरकारी सप्लाई के खाली बोरे के साथ पैकिंग और लदान के अन्य उपकरण मौके पर मिले।

मुख्यमंत्री से की थी शिकायत और जिला अधिकारियों के कसे थे पेंच

पूछताछ पर विधायक तरबगंज ने बताया कि कुछ दिनों पहले जिले में हुए वन टांगिया ग्राम असफर्राबाद में आए मुख्यमंत्री से वजीरगंज और बेलसेर ब्लाकों में सरकारी खाद्यान्न के बड़े पैमाने पर हो रही हेराफेरी की लिखित शिकायत की गयी थी। शिकायत करने पर मोके पर ही मुख्यमंत्री ने जिले अधिकारियों के पेंच कसे थे। इसी के साथ ये भी बताया गया है कि बरामद खाद्यान्न 50 लाख से एक करोड़ के बीच हो सकता है।

दोषियों को मिलेगी सजा

एसडीएम सौरभ भट्ट ने बताया कि छापा पड़ने के दौरान मौके पर ही दस हजार बोरी की गिनती की जा चुकी है। बचे हुए बोरियों की गिनती की जा रही है। यह गोदाम जिसमें छापा पड़ा है, यह पवन सिंह की निजी संपत्ति है और वहीं इसमें संलिप्त जा रहा है। मामले की जांच की जा रही है और दोषियों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा।

Mahendra Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned