scriptThe girl's body was found in the canal three days ago | संदिग्ध परिस्थितियों में तीन दिन पूर्व नहर में मिले बालिका के शव, 72 घंटे बाद भी पीएम रिपोर्ट का हवाला दे रही पुलिस, नहीं दर्ज हुई प्राथमिकी | Patrika News

संदिग्ध परिस्थितियों में तीन दिन पूर्व नहर में मिले बालिका के शव, 72 घंटे बाद भी पीएम रिपोर्ट का हवाला दे रही पुलिस, नहीं दर्ज हुई प्राथमिकी

गोंडा तीन दिनों पूर्व संदिग्ध परिस्थितियों में एक दलित बालिका का शव नहर में उतराता हुआ पाया गया। घटना के 72 घंटे बाद पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज नहीं किया। मृतका के भाई ने दुराचार के बाद हत्या कर शव फेंके जाने की शिकायत मुख्यमंत्री के जनसुनवाई पोर्टल पर करते हुए न्याय की गुहार लगाई है।

 

गोंडा

Updated: May 12, 2022 03:57:37 pm

अनसुलझे सवालों का किसी के पास नहीं है कोई जवाब

1 मृतका ने यदि आत्महत्या किया होता तो वह नीचे का वस्त्र क्यों खोलकर बहा देती।

2 शौच के लिए ले गई डिब्बा व उसके हाथ की टूटी चूड़ियां पंचायत सचिवालय के कमरे में कैसे पहुंची।
img-20220512-wa0012.jpg
3 जब उसने नहर में कूदकर आत्महत्या किया तो दुपट्टे से अपना गला क्यों कसा।

प्रकरण मोतीगंज थाना क्षेत्र के गांव पठानपुरवा मतवरिया से जुड़ा है। यहां की निवासिनी एक बालिका का शव बीते सोमवार को गांव से थोड़ी दूर अर्धनग्न अवस्था में नहर में उतराता हुआ पाया गया। ग्रामीण व पुलिस की मदद से शव को नहर से बाहर निकाला गया। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार मृतका के नीचे के वस्त्र गायब थे। उसका गला उसी के दुपट्टे से कसा हुआ था। ग्रामीणों की बात पर भरोसा करें तो मृतका घर से शौच के लिए जो डिब्बे लेकर निकली थी। वह डिब्बा गांव के बाहर बने पंचायत भवन में तथा उसके हाथ की टूटी चूड़ियां पाई गई हैं। मृतिका का भाई व ग्रामीण दुराचार के बाद हत्या कर शव को फेंके जाने की आशंका व्यक्त कर रहे हैं। मुख्यमंत्री पोर्टल पर किए गए ऑनलाइन शिकायत में उसके भाई ने आरोप लगाया है कि बीते 8 मई को वह घर से शाम 7 बजे शौच के लिए निकली थी। काफी समय तक वापस ना आने पर उसकी काफी खोजबीन की गई। लेकिन उसका कोई पता नहीं चल सका। 9 मई को दोपहर बाद उसका शव नाहर में उतराता दिखाई पड़ा। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार गले में दुपट्टे से गांठ लगी थी। शरीर पर कई जगह चोट के निशान थे। ग्राम पंचायत सचिवालय के एक कमरे में शौच के लिए ले गई डिब्बा व हाथ की टूटी चूड़ियां पंचायत सचिवालय में मिलने के बाद उसके भाई की आशंका प्रबल हो रही है। उसके भाई का आरोप है कि ग्राम पंचायत सचिवालय में नशेड़ीयो का जमावड़ा लगता है। वह लोग शराब पीने के बाद पूरी रात वहीं पर जुआ खेलते हैं। उसने बताया कि उसके बहन की दुराचार के बाद हत्या कर शव को नहर में अज्ञात लोगों द्वारा फेंका गया है। थाने पर हमारी तहरीर नहीं ली जा रही है। इस संबंध में थानाध्यक्ष मोतीगंज प्रमोद कुमार ने बताया की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृत्यु का कारण पानी में डूबने से हुई है। कहां की अभी प्राथमिकी दर्ज नहीं हुई है। जांच की जा रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी मामले में काशी से दिल्ली तक सुनवाई: शिवलिंग की जगह सुरक्षित की जाए, नमाज में कोई बाधा न होCWG trials में मचा घमासान, पहलवान ने गुस्से में आकर रेफरी को मारा मुक्का, आजीवन प्रतिबंध लगाAmarnath Yatra: सभी यात्रियों का 5 लाख का होगा बीमा, पहली बार मिलेगा RIFD कार्ड, गृहमंत्री ने दिए कई अहम निर्देशभीषण गर्मी के बीच फल-सब्जी हुए महंगे, अप्रैल में इतनी ज्यादा बढ़ी महंगाईIPL 2022 MI vs SRH Live Updates : पावर प्ले में हैदराबाद की शानदार शुरुआतकोरोना के कारण गर्भपात के केस 20% बढ़े, शिशुओं में आ रही विकृतिवाराणसी कोर्ट में का फैसला: अजय मिश्रा कोर्ट कमिश्नर पद से हटे, सर्वे रिपोर्ट पर सुनवाई 19 मई को, SC ने ज्ञानवापी पर हस्तक्षेप से किया इंकारGyanvapi: श्रीलंका जैसे हालात दे रहे दस्तक, इसलिए उठा रहे ज्ञानवापी जैसे मुद्दे-अजय माकन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.