हरियाणा से चली श्रमिक स्पेशल ट्रेन, 1400 मजदूर बिहार के लिए हुए रवाना, जताया आभार

Bihar News: घर लौट रहे मजदूरों ने प्रशासन का जताया आभार, कहा, यहां नहीं हुई किसी प्रकार की परेशानी (Train Deparchered From Bhiwani To Bihar With 1400 Labours) ...

 

By: Prateek

Published: 12 May 2020, 09:14 PM IST

पटना,गोपालगंज: लॉकडाउन 3 के बीच प्रवासी मजदूरों का अपने घर जाने का सिलसिला जारी है। मंगलवार सुबह पांच बजे दादरी एसएसीआर स्कूल से 40 बसों में बिहार के विभिन्न जिलों के रहने वाले श्रमिक एवं उनके परिजन भिवानी रेलवे स्टेशन के लिए रवाना हुए।


उपायुक्त श्यामलाल पूनिया ने ट्रेन से विदा हो रहे प्रवासी मजदूर सुनील से वीडियो कॉल पर बात की। इस दौरान मजदूर भी भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि राम-राम साहब! हमें दादरी और यहां स्टेशन पर किसी भी प्रकार की कोई परेशानी नहीं हुई है..वतन ठीक रहा तो फिर इहीं लौटेंगे। प्रशासन ने हमारा बहुत ख्याल रखा है, जिसे हम कभी नही भुला पाऐंगे। सुनील ने बताया कि उनका दादरी प्रशासन ने इतना ध्यान रखा, जैसे वे दादरी जिला में बतौर मेहमान आए हों। इतना प्यार यहां मिला है कि महामारी का खात्मा होते ही उनकी फिर से दादरी वापसी होगी।

 

पूनिया ने अपनी तरफ से आज गए 1440 मजदूरों को अच्छे स्वास्थ्य की शुभकामना देते हुए उनको दादरी से विदा किया। उपायुक्त ने श्रमिक सुनील से वीडियो कॉल पर उन्हें खाना व पानी उपलब्ध होने की बात भी पूछी और कहा कि सभी श्रमिक अपना ख्याल रखें। साथ ही अपने घर पर पहुंचकर भी सावधानी से काम लें। परिवार सहित अपने घर में ही रहें और कोरोना के फैलाव को रोकने में मदद करें।

 

इधर पहले परिवहन महाप्रबंधक धनराज कुंडू ने इन बसों को सेनेटाइज करवा कर स्कूल परिसर में भिजवाया। सुबह नाश्ता करवाकर और लंच पैक करके इन्हें रवाना किया गया। यहीं से ही सभी श्रमिकों के स्वाथ्य की जांच की गई और पुरी प्रक्रिया के दौरान शाारीरिक दूरी का विशेष ध्यान रखा गया। भिवानी स्टेशन पर पहुंचे के बाद भी श्रमिकों का मेडिकल चैकअप किया गया और एक-एक करके श्रमिकों को उनके निर्धाति स्थानों पर रेल में बैठाया गया। स्टेशन पर प्रशासन के सहित गोपाल होटल के परिवार के सदस्यों ने श्रमिकों को चाय व पानी भी उपलब्ध करवाया।

 

अतिरिक्त उपायुक्त मो. इमरान रजा ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि बिहार प्रदेश के आज दादरी से जो श्रमिक परिवार रवाना हुए हैं उनमें अरहरिया जिला के 393, कटिहार के 86, किशनगंज के सात, मधेपुरा के 195, पूर्णिया के 384, सहरसा के 335 और सुपोल जिला के 144 निवासी शामिल थे।

Show More
Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned