टेरर फंडिंगः गोरखपुर में एटीएस का छापा, गोलघर में दुकान पर सुबह से चल रही छापेमारी

  • गोलघर के बलदेव प्लाजा स्थित मोबाइल शाॅप पर छानबीन
  • 2018 में भी इसी शाॅप पर पड़ा था एटीएस का छापा

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

गोरखपुर. टेरर फंडिंग की जांच कर रही एटीएस की टीम ने एक बार फिर गोरखपुर की उसी दुकान पर छापेमारी की है जहां 2018 में छापेमारी की गई थी। एटीएस की टीम ने गोरखपुर में गोलघर के बलदेव प्लाजा स्थित एक मोबाइल की दुकान पर छापेमारी की है। सुबह 10 बजे से ही एटीएस की टीम ने दुकान खुलवाकर उसकी तलाशी और छानबीन शुरू कर दी। एहतियात के तौर पर क्राइम ब्रांच और कैंट थाने की पुलिस भी मौके पर बुला लिया गया।

इसे भी पढ़ें- गोरखपुर सीरियल ब्लास्ट में आजमगढ़ के तारिक काजमी को आजीवन कारावास

गोलघर गोरखपुर का पाॅश मार्केट इलाका कहा जाता है। बदलेव प्लाजा में छापेमारी की खबर फैलते ही बिल्डिंग में स्थित दूसरे दुकानदारों में हड़कम्प मच गया। सुबह-सुबह एटीएस की टीम बलदेव प्लाजा पहुंची तो वहां स्थित नईम एंड संस मोबाइल शाॅप बंद मिली। इसके बाद मालिक को बुलवाकर दुकान खुलवायी गयी। व्यापारियों और लोगों ने इसे सेल्स टैक्स या कस्टम का छापा समझकर अपनी दुकानें बंद कर लीं। स्थानीय पुलिस अधिकारी भी राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा मामला होने की बात कहकर कुछ बोलने से इनकार कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें- Spacial Trains: होली के लिये मार्च तक बढ़ायी गयीं स्पेशल ट्रेनें, देखिये पूरी लिस्ट

2018 में भी पड़ा था छापा, हुई थी गिरफ्तारी

एटीएस की टीम ने 24 मार्च 2018 को भी गोरखपुर में छापेमारी की थी। इस दौरान नईम एंड संस मोबाइल शाॅप पर छापेमारी के साथ ही नईम के दो बेटों नसीम अहमद और नईम अरशद 'बाॅबी’को आंती संगठन लश्कर-ए-तैयबा से संपर्क के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। एटीएस ने दोनों भाइयों से रात भर पूछताछ की थी। नकदी, कंप्यूटर हार्ड ड्राइव समेत दस्तावेज भी लिये थे।

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned