बेटा के सामने माँ के साथ हो रहा था ये काम, फिर दबंगों ने उठाया ये बर्बर कदम

बेटा के सामने माँ के साथ हो रहा था ये काम, फिर दबंगों ने उठाया ये बर्बर कदम

Dheerendra Vikramdittya | Publish: Nov, 15 2017 05:26:45 PM (IST) Gorakhpur, Uttar Pradesh, India

खजनी थानाक्षेत्र में दबंगों ने किया ऐसा काम कि पुलिस के इक़बाल पर उठने लगे सवाल

 

गोरखपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जिले में दबंगों पर लगाम कसने में पुलिस विफल है। दलितों पर अत्याचार भी कम होने का नाम नहीं ले रहा। खजनी थानाक्षेत्र में एक दलित माँ की अस्मत दबंगों ने लूटने की कोशिश की, जब बेटे ने माँ को बचाने की कोशिश की तो उसको मारकर अधमरा कर दिया। गंभीर हाल में घायल को मेडिकल कॉलेज से पीजीआई रेफर कर दिया गया है। लेकिन आर्थिक तंगी की वजह से परिजन कहीं और इलाज करा रहे। पीड़ित पक्ष ने स्थानीय पुलिस को तहरीर दे कार्रवाई की मांग की है।

khajni

मामला यह है कि खजनी क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली निषाद परिवार की एक महिला अपने घर में अकेली थी। सभी लोग घर से बाहर गए हुए थे। पड़ोस में रहने वाले नरसिंह के पुत्र अम्बुज की नीयत उस महिला पर काफी दिनों से ख़राब थी। मौका पाकर वह घर में घुस गया। इसके बाद वह महिला संग छेड़खानी करने लगा। महिला अपनी अस्मत बचाने के लिए चिल्लाने लगी। कोई उनकी पुकार सुन नहीं पा रहा था। इतने में महिला का बेटा घर आ गया। वह किसी स्कूल में पढ़ता है। अपनी आंखों के सामने माँ की अस्मत के संग खिलवाड़ देख वह अपना आपा खो बैठा। सीधे वह आरोपी से भिड़ गया। पीड़ित पक्ष की ओर से मिली तहरीर के मुताबिक खुद को घिरता देख अम्बुज चिल्लाया तो उसके पिता भी आ गए। इसके बाद दोनों ने मिलकर माँ- बेटे की बुरी तरह पिटाई कर दी। तहरीर के मुताबिक आरोपी दबंगों ने कुल्हाड़ी से माँ की अस्मत बचाने पहुंचे बेटे पर वार कर दिया। कई वार से वह जमीन पर गिर तड़पने लगा। इसके बाद उन लोगों ने दलित महिला की लाठी-डंडे से पिटाई कर दी। जिससे उसका हाथ फ्रैक्चर हो गया।

 

FIR

स्थानीय लोगों की मदद से पास के स्वास्थ्य केंद्र पर माँ-बेटे को पहुंचाया गया। स्वास्थ्य केंद्र से डॉक्टर ने दोनों घायलों को जिला अस्पताल भेज दिया। गंभीर हाल देखने के बाद जिला अस्पताल से दोनों को मेडिकल कॉलेज भेज दिया गया। लड़के की सिर में गंभीर चोट होने की वजह से उसे मेडिकल कॉलेज से भी लखनऊ के लिए रेफर कर दिया गया है।

Ad Block is Banned