पुलिस वाला ही निकला उस गैंग का सरगना, जिसकी पुलिस को थी तलाश

गैंग का सरगना बस्ती में ट्र्रैफिक पुलिस में तैनात मनीष यादव है जो अपने तीन साथियों के साथ फरार है

 

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

गोरखपुर. धन दोगुना करने की लालच देकर टप्पेबाजी के मामले की छानबीन करते हुए पुलिस गैंग के सरगना तक पहुंची तो दंग रह गई। वह कोई और नहीं बल्कि यूपी पुलिस का एक सिपाही निकला। पुलिस ने पूरे गैंग का खुलासा करते हुए गैंग के तीन बदमाशों को गिरफ्तार दिखाया है। हालांकि सरगना सिपाही अपने तीन साथियों के साथ फरार है। अब उसकी तलाश में दबिश दी जा रही है।


एसपी साउथ ने बताया कि गगहा में आरओ संचालक अंशुमन राय के साथ बीते 21 जून को बदमाशों ने दो लाख रुपये की टप्पेबाजी की थी। बदमाशों ने उन्हें पैसा दोगुना करने का झांसा देकर देईडिहा इलाके में बुलाया और दो लाख रुपये उड़ा दिये। हालांकि पुलिस की मुस्तैदी के चलते तीन बदमाश पकड़े गए, लेकिन सरगना अवधेश यादव और सिपाही मनीष यादव समेत चार बदमाश पुलिस के हत्थे नहीं चढ़े।


गोला पुलिस ने पूरे मामले का खुलासा किया। एसपी साउथ ने बताया कि बस्ती जिले में ट्रैफिक पुलिस में तैनात सिपाही मनीष यादव ने अपने छह साथियों के साथ मिलकर टप्पेबाजी की वारदात को अंजाम दिया था। ये लोगों को पैसा दोगुना करने का झांसा देकर बुलाते थे और रकम ले लेते थे।


उन्होंने कहा कि पुलिस की छवि धूमिल करने के आरोपी सिपाही मनीष यादव की बर्खास्तगी के लिये रिपोर्ट भेज दी गई है। पुलिस की टीमें फरार बदमाशों की गिरफ्तारी में जुटी हैं, जल्द ही वो सलाखों के पीछे होंगे।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned