scriptcovid ki nayi vaxcine naye sal par lagaegi gorakhpur vasiyo ko | गोरखपुर में एक लाख लोगों को लगेगी नई कोविड वैक्सीन ‘जाइकोव - डी’ | Patrika News

गोरखपुर में एक लाख लोगों को लगेगी नई कोविड वैक्सीन ‘जाइकोव - डी’

कोविड की नई वैक्सीन जाइकोव डी अब लगने को तैयार है। प्रशासन इसकी तैयारी में लग गया है। नए साल यानी 2022 में यह वैक्सीन लगनी शुरु हो जाएगी। पहले फेज में गोरखपुर सहित यूपी के 14 जिलों के 11.06 लाख लोगों को जाइकोव-डी वैक्सीन लगाई जाएगी। गोरखपुर में 1,00,600 लोगोंं के लिए 3,01,820 वैक्सीन आएगी। एनएचएम डायरेक्टर अपर्णा उपाध्याय ने प्रदेश भर के डीएम व सीएमओ को गाइडलाइन जारी कर वर्कशॉप शुरू कराने के निर्देश दिए हैं।

गोरखपुर

Published: December 22, 2021 04:13:16 pm

गोरखपुर के एक लाख लोगों को नई वैक्सीन जाइकोव -डी की तीन डोज लगेगी। यह डोज नए साल से लगनी शुरु होगी। सीएमओं ने इसके लिए गाइडलाइन भी जारी कर दिये हैं। कोविशील्ड, को-वैक्सीन के बाद यह अगली वैक्सीन है जो यूपी को मिलने जा रही है।
vacine.jpg

जानकारी के मुताबिक पहले फेज में गोरखपुर सहित यूपी के 14 जिलों के 11.06 लाख लोगों को जाइकोव-डी वैक्सीन लगाई जाएगी। गोरखपुर में 1,00,600 लोगोंं के लिए 3,01,820 वैक्सीन आएगी। इसके लिए शासन ने निर्देश जारी कर दिए हैं।
कोविड की इस नई वैक्सीन की लाभार्थियों को तीन-तीन डोज दी जानी हैं। यूपी को इसके लिए 33 लाख 20 हजार का कोटा अलॉट हुआ है, जिसके हिसाब से 11 लाख 6 हजार 200 लाभार्थियों को इसका फायदा मिलेगा। गवर्नमेंट ने इसके लिए 660 वैक्सीनेटर्स को ट्रेनिंग देने की तैयारी की है।
सीएमओ आशुतोष दुबे ने बताया कि एनएचएम डायरेक्टर की ओर से लेटर मिलते ही जाइकोव-डी वैक्सीन को लेकर जो गाइडलाइन जारी की गई है। उसमें डब्ल्यूएचओ, एनपीएसपी के सहयोग से जनपदस्तरीय वैक्सीनेटर्स को ट्रेनिंग दी जाएगी। ट्रेनिंग गोरखपुर में इस हफ्ते में पूरी कर ली जाएगी।
दरअसल, भारतीय कंपनी जायडस कैडिला ने अपनी कोरोना वैक्सीन जाइकोव-डी' के लिए भारत के औषधि महानियंत्रक से आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी भी दे दी है। बच्चों के लिए सुरक्षित बताई जा रही इस कोरोना वैक्सीन में बहुत कुछ खास है। इस वैक्सीन में सबसे अधिक खास बात यह है कि यह पहली पालस्मिड डीएनए वैक्सीन है। इसके साथ-साथ इसे बिना सुई की मदद से फार्माजेट तकनीक से लगाया जाएगा, जिससे साइड इफेक्ट के खतरे कम होंगे। इसे फार्माजेट सुई रहित तकनीक (बिना निडिल वाली फर्माजेट एडाप्टर) की मदद से लगाया जाएगा। इसमें सुई की जरूरत नहीं पड़ती। बिना सुई वाले इंजेक्शन में दवा भरी जाती है, फिर उसे एक मशीन में लगाकर बांह पर लगाते हैं। मशीन पर लगे बटन को क्लिक करने से टीका की दवा अंदर शरीर में पहुंच जाती है।
इस तरह दी जाएगी तीन खुराक
जाइकोव-डी को 20 अगस्त को दवा नियामक से आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी मिली थी। नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ वीके पॉल ने 30 सितंबर को कहा था कि दुनिया का पहला डीएनए-आधारित टीका राष्ट्रव्यापी अभियान में बहुत जल्द इस्तेमाल किया जाएगा। जॉयकोव डी की तीन खुराकें लगेंगी। पहली खुराक के 28 दिन बाद दूसरी खुराक दी जाएगी और 56 दिन बाद तीसरी।
कितने दिन के अंतर पर लगेगी वैक्सीन
इस वैक्सीन की तीन डोज दी जाएगी, जिसमें दूसरी डोज और पहली डोज के बीच 28 दिन का अंतर होगा और तीसरी डोज पहली डोज के 56वें दिन दी जाएगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022 LIVE updates: देश आज मना रहा 73वें गणतंत्र दिवस का जश्न, ITBP के जवानों ने - 40 डिग्री तापमान में फहराया तिरंगाRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस पर दिल्ली की किलेबंदी, जमीन से आसमान तक करीब 50 हजार सुरक्षाबल मुस्तैदRepulic Day 2022: जानिए क्या है इस बार गणतंत्र दिवस की थीमस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयRepublic Day: छत्तीसगढ़ के दो सैन्य ग्राम, जहां कदम रखते ही सुनाई देती है शहीदों और वीर सैनिकों की वीर गाथा, ऐसा देश है मेरा...UP Election 2022: सपा ने 39 प्रत्याशियों की जारी की सूची, 2002 के बाद पहली बार राजा भैया के खिलाफ उतारा प्रत्याशीpetrol diesel price today: पेट्रोल-डीजल के दामों में कोई बदलाव नहीं
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.