दंतेवाड़ा नक्सली हमले में शहीद हुए गोरखपुर के लाल दंतेश्वर मौर्य

दंतेश्वर मौर्य वर्तमान में वे विधायक भीमा मंडावी की गाड़ी के साथ चल रहे थे

By: Ashish Shukla

Updated: 10 Apr 2019, 08:39 PM IST

गोरखपुर. मंगलवार को छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले के कुआकोंडा क्षेत्र के श्यामगिरी के पास नक्सलियों ने भाजपा विधायक भीमा मंडावी के वाहन को आईईडी विस्फोट से उड़ा दिया। जिससे इस घटना में बड़हलगंज का जवान दंतेश्वर मौर्य भी शहीद हो गये। सूचना के बाद बड़हलगंज के सिधुआपार में शहीद के आवास पर कोहराम मच गया। शहीद जवान दंतेश्वर मौर्य 2006-07 में छत्तीसगढ़ पुलिस में तैनात हुए। वे कमांडो की ट्रेनिंग भी लिए थे। वर्तमान में वे विधायक भीमा मंडावी की गाड़ी के साथ चल रहे थे। बताया जाता है कि गाड़ी दंतेश्वर ही चला रहे थे इस बीच नक्सलियों ने वाहन को आईईडी विस्फोट से उड़ा दिया। जिससे मौके पर भी उनकी मौत हो गयी। परिवार वालों ने बताया कि शहीद जवान 12अप्रैल को छुट्टी पर घर आने वाले थे। उनके बहन की लड़की की शादी 18 अप्रैल को होने वाली है। वे एक माह पूर्व घर आये थे।

शहीद जवान का मूल कौड़ीराम क्षेत्र के माहोपार गांव में है। स्व. रामानुज मौर्य के दो पुत्र हैं। दोनों छत्तीसगढ़ पुलिस में तैनात हैं। कौड़ीराम क्षेत्र के माहोपार गांव के मूल निवासी स्व. रामानुज मौर्य के बड़े पुत्र योगेंद्र मौर्य सुकमा पुलिस में व छोटे पुत्र दंतेश्वर मौर्य दंतेवाड़ा पुलिस फोर्स में तैनात थे। पिछले ग्यारह-बारह वर्षों से शहीद की पत्नी मीनू मौर्या बड़हलगंज के प्राथमिक विद्यालय द्वितीय में शिक्षिका के पद पर तैनात हैं तभी से बड़हलगंज के सिधुआपार में अपना मकान बनाकर निवास करती हैं।

शहीद की मां कलावती देवी अपनी बेटी की लड़की के शादी में शामिल होने महाराजगंज जनपद के हल्दी गांव गयी थीं। सूचना के बाद शहीद की मां कलावती देवी सिधुआपार पहुंची। जहां घर पर कोहराम मचा है। शहीद जवान की पत्नी मीनू मौर्या बड़हलगंज के प्राथमिक विद्यालय द्वितीय में शिक्षिका के पद फर तैनात हैं। उनका सात वर्षीय इकलौता पुत्र आग्रह मौर्य है।

Ashish Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned