scriptddu ke nilambit professar ne lagai chatro ki class | निलंबित आचार्य कमलेश गुप्त ने लगाई छात्रों की क्लास,कहा छात्रों की शिक्षा मेरा पहला कर्तव्य | Patrika News

निलंबित आचार्य कमलेश गुप्त ने लगाई छात्रों की क्लास,कहा छात्रों की शिक्षा मेरा पहला कर्तव्य

मंगलवार को निलंबित किए गए दीनदयाल उपाध्याय विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग के आचार्य प्रोफेसर कमलेश कुमार गुप्त ने बुधवार की सुबह छात्रों की क्लास ली। क्लास रुम में नहीं बल्कि हैलीपैड पर लगी। छात्रों की क्लास लेने के बाद वह प्रशासनिक भवन पर सत्याग्रह पर बैठ गए ।

गोरखपुर

Published: December 22, 2021 03:27:55 pm

विश्वविद्यालय का महौल खराब करने सहित कई आरोप लगाते हुए विश्वविद्यालय प्रशासन ने मंगलवार को हिंदी विभाग के आचार्य कमलेश गुप्त को निलंबित कर दिया था। निलंबित होने के बाद भी प्रोफेसर ने बुधवार को छात्रों की क्लास ली। क्लास लेने के पश्चात वह प्रशासनिक भवन पर सत्याग्रह पर बैठ गए।
professar_ne_lagayi_class.jpg
आचार्य कमलेश गुप्त ने देर रात अपनी भावी रणनीति का खुलासा किया। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा है कि विश्वविद्यालय परिवार को बचाने के लिए वह आज दोपहर 2:00 बजे से 3:00 बजे तक पंडित दीनदयाल उपाध्याय प्रतिमा के समक्ष सत्याग्रह करेंगे।
प्रो. कमलेश के निलंबन के विरोध में देर रात धरने पर बैठे छात्र
दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के आचार्य प्रोफेसर कमलेश कुमार गुप्त के निलंबन के विरोध में विश्वविद्यालय हॉस्टल के छात्रों ने देर रात सड़क पर उतर कर प्रदर्शन किया। मुख्य द्वार पर पहुंच कर धरने पर बैठ गए। छात्रों ने बुधवार यानी आज दोपहर में शहर में पैदल मार्च का एलान किया। छात्रों ने कहा कि विश्वविद्यालय जाकर प्रोफेसर कमलेश गुप्त के धरने पर भी बैठेंगे।
मंगलवार की रात करीब 10:45 बजे विश्वविद्यालय के एनसी हॉस्टल से छात्र निकलकर विश्वविद्यालय के हीरापुरी कॉलोनी में घूमे। कई प्रोफेसरों के घर गए और समर्थन मांगा।इसके बाद रेलवे बस स्टेशन की ओर से नारेबाजी करते हुए गोरखपुर विश्वविद्यालय मुख्य द्वार पर पहुंचे। छात्रों ने विश्वविद्यालय गेट खुलवा दिया और धरने पर बैठ गए।कुलपति को हटाने की मांग को लेकर प्रो. गुप्त मंगलवार सुबह 11 बजे धरने पर बैठने आए तो उन्हें अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो. अजय सिंह ने रोकने की कोशिश की। करीब एक घंटे तक दोनों के बीच बहस चलती रही, लेकिन प्रो गुप्त नहीं माने और प्रतिमा के पास धरने पर बैठ गए। इसे विश्वविद्यालय प्रशासन ने अनुशासनहीनता व दायित्व निर्वहन के प्रति घोर लापरवाही करार दिया। साथ ही कुलपति के आदेश पर कुल सचिव विश्वेश्वर प्रसाद ने हिंदी विभाग के प्रोफेसर कमलेश गुप्त को निलंबित करने व उनके खिलाफ विभागीय जांच का आदेश जारी कर दिया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.