गोरखपुर में एक बार फिर हुआ यह चुनाव स्थगित, जानिए क्या है वजह

गोरखपुर में एक बार फिर हुआ यह चुनाव स्थगित, जानिए क्या है वजह

Dheerendra Vikramdittya | Publish: Sep, 11 2018 08:00:31 PM (IST) | Updated: Sep, 11 2018 08:20:34 PM (IST) Gorakhpur, Uttar Pradesh, India


सुबह कैंपस में जबर्दस्त मारपीट और शिक्षकों के साथ भी हुआ था दुव्र्यवहार

 

दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विवि के छात्रसंघ चुनाव को स्थगित कर दिया गया है। मंगलवार को सुबह कैंपस में अराजकता और दो गुटों में टकराव-मारपीट, शिक्षकों के साथ दुव्र्यवहार के बाद यह निर्णय लिया गया। विवि शिक्षक संघ ने अपने शिक्षकों के साथ हुए दुव्र्यवहार के बाद छात्रसंघ चुनाव में सहयोग नहीं करने का निर्णय कुलपति को सुनाया था। देर शाम को छात्रसंघ चुनाव के लिए गठित सलाहकार समिति ने चुनाव स्थगित करने का निर्णय लिया।
विवि के चुनाव अधिकारी प्रो.ओपी पांडेय ने बताया कि विवि में अराजकता और भय व्याप्त है। हर ओर असुरक्षा की स्थिति है इसलिए सलाहकार समिति ने निर्णय लिया है कि ऐसी स्थिति में चुनाव कराया जाना संभव नहीं।
उधर, छात्रसंघ चुनाव कराने के बाद विवि कैंपस में एक बार फिर बवाल की स्थिति बन सकती है। कई धरना-प्रदर्शनों के बाद विवि ने चुनाव की तिथि का ऐलान किया था। लेकिन कैंपस में हुए मारपीट के बाद चुनाव स्थगित किए जाने से छात्र एक बार फिर उग्र हो सकते हैं।

DDU ELECTION

सुबह से ही विवि कैंपस था अशांत
गोविवि में दो दिन बाद छात्रसंघ चुनाव के लिए वोट पड़ने हैं। मंगलवार को छात्रनेता अपने अपने प्रत्याशियों के लिए प्रचार कर रहे थे। बताया जा रहा है कि लाॅ फेकल्टी में क्लासेस चल रहे थे। उसी दौरान एबीवीपी प्रत्याशी रंजीत सिंह श्रीनेत के समर्थक प्रचार करने पहुंचे। क्लास ले रहे विवि के एक शिक्षक ने छात्रों को शोर-शराबा करने से मना करते हुए बाद में प्रचार करने की बात कही। आरोप है कि छात्रों का गुट वादविवाद पर उतर आया। कहासुनी होते होते मामला बिगड़ गया। एबीवीपी के छात्रों ने शिक्षकों के साथ दुव्र्यवहार करना शुरू कर दिया। इसी बीच लाॅ के छात्र व अध्यक्ष पद के प्रत्याशी अनिल दुबे के समर्थक मौके पर आकर प्रतिरोध करने लगे। दोनों पक्ष देखते ही देखते एक दूसरे से भिड़ गए। जोरदार मारपीट शुरू हो गई। पूरा कैंपस अराजकता के हवाले हो गया। गाड़ियां तोड़ी जाने लगी। दोनों छात्रसमूह एक दूसरे को दौड़ा-दौड़ाकर मारने पीटने लगे।
देखते ही देखते कैंपस और कैंपस के बाहर बवाल शुरू हो गया। छात्र जुटने लगे।
विवि में अचानक शुरू हुए बवाल से पुलिस हरकत में आ गई। मामला नियंत्रित करने के लिए लाठीचार्ज कर दिया। पुलिस ने भी दौड़ा-दौड़ा कर पीटना शुरू कर दिया। पुलिस के लाठीचार्ज के बाद छात्र तितर बितर हुए।
पुलिस ने कई छात्रों को हिरासत में ले लिया है। खबर लिखे जाने तक छात्रों को कैंट थाने में बैठाया गया था। इस विवाद के बाद विवि और आसपास भारी मात्रा में फोर्स तैनात कर दिया गया है। विवि में सभी कक्षाओं को चुनाव तक स्थगित कर दिया गया है।
उधर, छात्रसंघ में बढ़ी अराजकता और शिक्षकों के साथ दुव्र्यवहार से आहत विवि शिक्षक संघ ने चुनाव में किसी प्रकार का असहयोग न करने का निर्णय लिया था।

 

Ad Block is Banned