डेढ़ साल में चार हजार से अधिक मासूम मर गए लेकिन रहनुमाओं को फिक्र नहीं

डेढ़ साल में चार हजार से अधिक मासूम मर गए लेकिन रहनुमाओं को फिक्र नहीं

Dheerendra Vikramdittya | Publish: Jun, 14 2018 12:53:29 PM (IST) Gorakhpur, Uttar Pradesh, India


बीआरडी मेडिकल काॅलेज में इंसेफेलाइटिस सहित विभिन्न वजहों से पांच महीने में पौने नौ सौ मासूम मरे

चुनावी मौसम में बच्चों की मौतों को याद करने की सियासत के अलावा किसी सियासी दल को इन्सेफेलाइटिस उन्मूलन और बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराना शायद ही कभी याद रहता। अब तो हद यह कि मौतों के आंकड़ों के बाहर आने पर ही पहरा लगा दिया गया है। पिछले पांच महीने में करीब नौ सौ बच्चे मौत के मुंह में समा चुके हैं। अगर बीते डेढ़ साल की बात करें तो अकेले बीआरडी मेडिकल काॅलेज में चार हजार से अधिक मासूम दम तोड़ चुके हैं। लेकिन सत्ता का संचालन कर रहे लोगों को जुंबिश तक नहीं हो रही। आलम यह कि इंसेफेलाइटिस तो मासूमों की मौतों की वजह बन ही रही, बीआरडी मेडिकल काॅलेज का नियोनेटल आईसीयू नवजातों का कब्रगाह बनता जा रहा लेकिन गरीबी-बेकारी से जूझते पूर्वांचल के बच्चों को बचाना सिर्फ राजनैतिक जुमलेबाजी तक सीमित है।
पूर्वांचल में कालकवलित होती मासूम जिंदगियों को केवल पिछले डेढ़ सालों के आंकड़ों से समझा जा सकता है। मौतों का यह आंकड़ा उस क्षेत्र का है जहां 2014 लोकसभा चुनाव के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने मासूमों की मौत पर चिंता जताते हुए समर्थन की अपील की थी। 2017 में भी आला लीडरान के अलावा खुद अध्यक्ष अमित शाह ने इंसेफेलाइटिस जैसी महामारी से निजात को सार्थक पहल करने का आश्वासन देकर वोट लिया था। दोनों बार क्षेत्र में खुलकर समर्थन किया, राजनैतिक सूरत तो बदली लेेकिन यहां की सूरत-ए-हाल जस की तस है। यूं कहें तो स्थितियां और बदतर हो चली हैं।
बीते डेढ़ साल के बीआरडी मेडिकल काॅलेज के आंकड़ों पर अगर गौर करें तो 4111 मासूम मौत के मुंह में जा चुके हैं। 2017 में कुल 3239 मासूमों की मौत हुई। इसमें 2032 नवजात थे। जबकि 1207 अन्य मासूम। एनआईसीयू में 28 दिन तक के बच्चों को स्पेशल केयर में रखा जाता है।
वहीं, 2018 में पांच महीने अभी बीते हैं। जून चल रहा है। इन पांच महीनों में 872 मासूमों की जान जा चुकी है। इनमें 567 नवजात हैं। मौत के मुंह में समाए इन बच्चों में 63 इंसेफेलाइटिस से पीड़ित थे।

 

nehru hospital

सरकार ने तो सबकुछ ठीक करने का किया था दावा

पिछले साल ऑक्सीजन की कमी से तीन दर्जन से अधिक बच्चों की मौत के बाद सरकार ने व्यवस्थागत बदलाव के साथ ही सुविधाएं मुहैया कराने का वायदा किया था, लेकिन स्थितियां अब भी जस की तस हैं। कोई भी जिला ऐसा नहीं है जहां के अस्पताल चिकित्सकों की कमी से न जूझ रहे हों। सीएएचसी के हालात तो सबसे बदतर हैं। स्पेशलिस्टों की बात कौन करे डाॅक्टर्स की ही उपलब्धता सरकार अभी तक सुनिश्चित नहीं कर सकी है। पैरामेडिकल स्टाॅफ की भी कमियां हैं। इंसेफेलाइटिस की रोकथाम को लेकर चाइल्ड स्पेशलिस्टों की तैनाती के लिए कोर्ट तक निर्देश दे चुका है लेकिन हर जगह इनकी कमी हैं। इंसेफेलाइटिस की रोकथाम के लिए सीएचसी स्तर पर ईटीसी सेंटर बनाए गए थे लेकिन वह केवल सफेद हाथी साबित हुए। बीआरडी मेडिकल काॅलेज का भी हाल जुदा नहीं है। इंसेफेलाइटिस के मरीज सबसे अधिक यहां आते हैं। लेकिन यह मेडिकल काॅलेज डाॅक्टर से लेकर पैरामेडिकल स्टाॅफ तक की कमी से जूझ रहा। स्पेशलिस्टों की तो यहां भारी कमी है। आलम यह कि जब इंसेफेलाइटिस सीजन आता है और मौतों की संख्या बढ़ने लगती तो दूसरे जगहों के चिकित्सकों को कुछ महीनों के लिए अटैच कर दिया जाता।

शुद्ध पेयजल तक मुहैया कराने में विफल हो रहा प्रशासन

इंसेफेलाइटिस की वजह गंदा पानी को भी माना जा रहा। कई सालों से इंसेफेलाइटिस से रोकथाम को लेकर जागरूकता अभियानों के नाम पर लाखों-लाख बहा दिए जाते हैं। लेकिन गांवों में अभी भी इंडियामार्का-2 हैंडपंप खराब हालत में हैं। शुद्धपेयजल के लिए लगाए गए इन हैंडपंपों के देखभाल का अभाव है। कई तो गंदा पानी भी उगल रहे।

अभी तक एनआईवी की रीजनल यूनिट को नहीं मिली जमीन
सरकार गोरखपुर में एनआईवी की क्षेत्रीय यूनिट और सीआरसी बनवाने का दावा कर रही लेकिन अभी तक इसके लिए जमीन खोजने काम पूरा नहीं हो सका है।

इन जिलों के लिए कहर है
गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल काॅलेज में गोरखपुर, देवरिया, बस्ती, महाराजगंज, कुशीनगर, सिद्घार्थनगर, संत कबीरनगर, बहराइच, लखीमपुर खीरी और गोंडा आदि जिलों से लोग इलाज के लिए आते हैं। इंसेफेलाइटिस इन क्षेत्रों में कहर बन ही हुई है। अब बीआरडी काॅलेज नवजातों के लिए कब्रगाह बनता जा रहा। पिछले डेढ़ साल में यहां का एनआईसीयू कई हजार नवजातों को लील चुका है।

2018 में बीआरडी मेडिकल काॅलेज में हुई मौतें

महीना एनआईसीयू पीआईसीयू कुल
जनवरी 89 40 129
फरवरी 85 55 140
मार्च 155 80 235
अप्रैल 118 68 186
मई 120 62 182

तीन सालों में बीआरडी मेडिकल काॅलेज में हुई मौतें

साल एनआईसीयू आईसीयू कुल
2015 935 1271 2206
2016 1513 1475 2988
2017 2032 1207 3239

 

Ad Block is Banned