प्रेमी के दरवाज़े पर प्रेमिका बारिश में भीगकर देती रही धरना, शादी के लिये माने प्रेमी के घरवाले

प्रेमी से शादी की ज़िद पर अड़ी रही प्रेमिका, लेकिन लड़के के उसके घर वाले तैयार नहीं हुए। वह बारिश में भीगती रही लेकिन वहां से हटने को तैयार नहीं थी। आखिरकार गांव वालों के समझाने के बाद प्रेमी के घरवाले शादी को राज़ी हो गए।

गोरखपुर/कुशीनगर. प्रेमी जब शादी करने की बात से मुकरने लगा तो प्रेमिका उसके दरवाज़े पर जा पहुंची। तेज़ बारिश में भी वो वहीं जमी रही। आखिरकार प्रेमी के परिवार वालों को झुकना पड़ा और वो शादी के लिए मान गए।

 

कुशीनगर के हनुमानपुर थानाक्षेत्र के एक गांव की लड़की को करीब डेढ़ साल पहले गांव के ही एक लड़के से प्रेम हो गया, जो दूसरी जाति का था। दोनों का प्रेम प्रगाढ़ होता गया। बेरोज़गार प्रेमी इसी बीच रोज़गार के लिए परदेस चला गया। पर वहां पहुंचने पर भी दोनों के बीच मोबाइल से लगातार बातचीत होती रही।

 

इसी बीच कोरोना महामारी फैलने के चलते लॉक डाउन लगा तो प्रेमी वापस लौट आया। दोनों की मुलाकातें फिर शुरू हो गयीं। प्रेमिका ने उससे शादी करने को कहा तो वो टालने लगा। इससे परेशान प्रेमिका ने जब देखा कि वह विवाह की बात से मुकर रहा है तो उसका धैर्य जवाब दे गया और वह प्रेमी के घर जा पहुंची।

 

वह प्रेमी से शादी की ज़िद पर अड़ी रही, लेकिन उसके घर वाले तैयार नहीं हुए। लड़के की मां ने ग्राम प्रधान से मामले को संभालने को कहा लेकिन वो शादी करने पर अड़ी रही। वह बारिश में भीगती रही लेकिन वहां से हटने को तैयार नहीं थी। प्रेमिका के घर वालों ने भी उसे समझाने से इनकार कर दिया। आखिरकार गांव वालों के समझाने के बाद प्रेमी के घरवाले शादी को राज़ी हो गए।

Show More
रफतउद्दीन फरीद Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned