गीता प्रेस में नहीं है वित्तीय संकट : सांसद रविकिशन

MP Ravi kishan Geeta Press No Financial Crisis - गीता प्रेस के आर्थिक संकट से गुजरने और बंद होने को लेकर सोशल मीडिया पर चल रही खबरों का गोरखपुर लोकसभा सांसद रवि किशन ने किया खंडन

By: Mahendra Pratap

Published: 10 Jun 2021, 04:58 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

गोरखपुर. MP Ravi kishan Geeta Press No Financial Crisis गीता प्रेस के आर्थिक संकट से गुजरने और बंद होने को लेकर सोशल मीडिया पर चल रही खबरों का गोरखपुर लोकसभा सांसद रवि किशन ने खंडन करते हुए कहाकि, मुझे यह बताते हुए बहुत खुशी हो रही है कि गीता प्रेस जो पिछले कई दशकों से सनातन धर्म को बढ़ावा दे रहा है और इसकी रक्षा कर रहा है, वह अच्छी तरह से चल रहा है।

Uttar Pradesh Assembly election 2022 : भाजपा की विस्तार नीति के मुकाबले के लिए छोटे दलों का महागठबंधन

गीता प्रेस का बुधवार को दौरा करने के बाद सांसद रवि किशन ने बताया कि ”प्रेस दो लाख वर्ग फीट क्षेत्र में स्थित है और मैंने एक जर्मन प्रिंटिंग मशीन और कई अन्य उच्च तकनीक मशीनें यहां देखीं हैं। प्रेस में वित्त की कोई कमी नहीं है, और मैं सभी को बताना चाहता हूं कि प्रेस कभी भी किसी तरह का दान स्वीकार नहीं करता है, इसलिए कृपया धोखाधड़ी से सावधान रहें।”

लगभग 80 लाख रुपए प्रति माह देता है वेतन :- सांसद रवि किशन ने कहाकि, प्रेस पूरी तरह से आत्मनिर्भर है और यह कर्मचारियों के वेतन के रूप में लगभग 80 लाख रुपए प्रति माह देता है। यहां हर महीने 15 भाषाओं में लाखों किताबें छपती हैं।

सचित्र पुस्तक का प्रकाशन नई प्रेरणा देगा :- इससे पूर्व सांसद रवि किशन शुक्ला ने कहाकि, बचपन से ही घर में गीता प्रेस प्रकाशित धार्मिक पुस्तकों का अध्ययन होता रहा है। हिन्दू धर्म मानने वाले सभी लोगों के घरों में चाहे देश या विदेश हो वहां गीता प्रेस की प्रकाशित पुस्तकें अवश्य रहती हैं। इस सचित्र पुस्तक का प्रकाशन एक नई प्रेरणा देगा।

र्तमान में तीन हजार पुस्तकें प्रकाशित हुई :- गीता प्रेस व्यवस्थापक लालमणि तिवारी ने बताया कि, वर्तमान में तीन हजार पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं। देश की सभी 20 शाखाओं में यह उपलब्ध है। गीता प्रेस पर कभी आर्थिक संकट नहीं रहा। कभी सरकारी आर गैर सरकारी सहयोग नहीं लिया।

Mahendra Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned