गोरखपुर में सिर्फ शहरी विधान सभा ने बीजेपी को दिलाई बढ़त, कांटे का मुकाबला

गोरखपुर में सिर्फ शहरी विधान सभा ने बीजेपी को दिलाई बढ़त, कांटे का मुकाबला

Jyoti Mini | Publish: Mar, 14 2018 10:21:52 AM (IST) | Updated: Mar, 14 2018 10:29:31 AM (IST) Gorakhpur, Uttar Pradesh, India

अभी तक के आए रूझानों में सिर्फ शहरी विधानसबा में बीजेपी ने बढ़त बनाई है।

गोरखपुर. सीएम के जिले गोरखपुर में उपचुनव की मतगणना जारी है। अभी तक के आए रूझानों में सिर्फ शहरी विधानसबा में बीजेपी ने बढ़त बनाई है। गोरखपुर ग्रामीण विधानसभा में बीजेपी 1343 वोट से बीजेपी आगे चल रही है। यानि दोनो सीटों का मिाकर करीब कुल 3200 वोटों से बीजेपी सीएम के जिले में आगे चल रही है। बता दें कि, अभी तक पहले राउंड का परिणाम घोषित न होने से लोग सवाल करने लगे हैं। सूत्रों की मानें तो गोरखपुर सीट की दो शहरी विधानसभा को छोड़ भाजपा तीन अन्य में पिछड़ चुकी है। जिसमें सिर्फ शहरी विधान सभा में बीजेपी ने बढ़त बनाई है। वहीं ग्रामीण में वोटों का अंतर काफी कम है। गोरखपुर में बीजेपी प्रत्याशी उपेंद्र दत्त शुक्ल और प्रवीण निषाद के बीच कांट की टक्कर मानी जा रही है।

लोगों को बाकी तीन विधान सभा के रूझान का बेसब्री से इंतजार है। लोगों का कहना है कि, मुबला कांटे की टक्कर है। बाकी जगहों पर बीजेपी पीछड़ रही है, इसलिए रूझान की स्तिथी घोषित नहीं की जा रही है।

गोरखपुर तो बीजेपी का गढ़ रहा है। यहां से यूपी के वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पांच बार सांसद रहे और हर बार उनकी जीत के वोटों का अंतर बढ़ता ही रहा। 2014 लोकसभा चुनाव में यहां भी वोटिंग 50 से 60 प्रतिशत के बीच ही थी। 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में भी बम्पर वोटिंग ने भाजपा को फायदा दिलाया।

यहां तक कि मेयर के चुनाव में शहरी इलाके में 33 प्रतिशत वोटों पर ही लीड कर लिया। उपचुनाव में बीजेपी का गढ़ माने जाने वाले शहरी इलाके में वोटिंग 37 प्रतिशत हुई है, जिससे बीजेपी थोड़ा राहत महसूस कर रही है। सूत्र बताते हैं कि खुद CM योगी ने मतदान के पहले कार्यकर्ताओं को शहरी इलाके में कम से कम 60 प्रतिशत तक वोटिंग कराने के लिये जी जान से लगने का निर्देश दिया था। बता दें कि, 12 बजे तक जीत हार का फैसला हो जाएगा।

 

Ad Block is Banned