मौसम विभाग का पूर्वी यूपी के कई जिलों में 12-15 मई के बीच बारिश और ओलावृष्टि का अलर्ट

weather Alert - मौसम विशेषज्ञ का अलर्ट इस वक्त पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय
- निम्न वायुदाब तेज हवाओं, गरज-चमक के साथ बारिश की बनेगा वजह

By: Mahendra Pratap

Published: 09 May 2021, 06:54 PM IST

गोरखपुर. weather Alert मौसम विशेषज्ञ का अलर्ट है कि, इस वक्त पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय है। पश्चिमी विक्षोभ जब पूर्वी उत्तर प्रदेश के ऊपरी हिस्से में पहुंचेगा तो वह निम्न वायुदाब के साथ मिलकर तेज हवाओं संग गरज-चमक के बीच बारिश का वजह बनेगा। बारिश का यह सिलसिला 12 मई से शुरू होकर करीब तीन दिन 14 मई या 15 मई तक चल सकता है।

UP Weather Forecast: उत्तर प्रदेश में मौसम की बदल गई चाल, दो दिन शांत रहने के बाद आंधी के साथ बरसेंगे मेघा

गोरखपुर में रविवार दोपहर मौसम का मिजाज बदल गया। खूब तेज हवा के साथ तेज बारिश और ओलावृष्टि हुई है। विद्युत आपूर्ति व्यवस्था ध्वस्त हो गई। कुछ किसान अपना सिर पकड़ा के बैठ गए तो कुछ के लिए बारिश लाभप्रद रही। आम के बागों को काफी नुकसान उठाना पड़ा। सब्जी की खेती के लिए बारिश लाभप्रद रही।

तीन से चार खूब बरसेंगे बदरा :- मौसम विशेषज्ञ कैलाश पांडेय ने बताया कि जम्मू-कश्मीर के ऊपर बने सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ ने तिब्बत की ओर बढ़ना शुरू कर दिया है। इधर पंजाब से उत्तर प्रदेश होते हुए असम तक एक निम्न वायुदाब क्षेत्र भी बन गया है। पश्चिमी विक्षोभ जब पूर्वी उत्तर प्रदेश के ऊपरी हिस्से में पहुंचेगा तो वह निम्न वायुदाब के साथ मिलकर तेज हवाओं के साथ गरज-चमक के बीच बारिश का वजह बनेगा। बारिश का यह सिलसिला 12 मई से शुरू होकर तीन दिन तक चल सकता है।

पूर्वी उत्तर प्रदेश में 15 से 20 मिलीमीटर बारिश का पूर्वानुमान :- एक अनुमान के अनुसार इस वायुमंडलीय परिस्थिति की वजह से पूर्वी उत्तर प्रदेश के 60 से 70 फीसद स्थानों पर 15 से 20 मिलीमीटर बारिश का पूर्वानुमान है। बारिश होने की संभावना वाले स्थानों में गोरखपुर और आसपास का क्षेत्र भी शामिल है। यह बारिश एक बार फिर अधिकतम तापमान को 35 डिग्री सेल्सियस से और न्यूनतम तापमान को 22 डिग्री सेल्सियस से नीचे लाएगी।

हीट इंडेक्स को बढ़ा देगी :- मौसम विशेषज्ञ कैलाश पांडेय ने आगे बताया कि, लगातार चल रही पुरवा हवाएं बंगाल की खाड़ी से नमी लेकर पूर्वी उत्तर प्रदेश तक पहुंच रही हैं। इधर बादलों और धूप में जद्दोजहद जारी है। नमी, बादल और धूप की यह रस्साकसी हीट इंडेक्स को बढ़ा देगी। ऐसी परिस्थिति में पैमाने पर तो तापमान नियंत्रण में दिखेगा लेकिन गर्मी का अहसास रिकार्ड तापमान से चार-पांच डिग्री सेल्सियस अधिक का होगा।

Show More
Mahendra Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned