डाॅ.कफिल का निलंबन वापस लेने आईएमए ने लिखा पीएम मोदी को पत्र, कहा आक्सीजन कांड की जांच सीबीआर्इ करे

डाॅ.कफिल का निलंबन वापस लेने आईएमए ने लिखा पीएम मोदी को पत्र, कहा आक्सीजन कांड की जांच सीबीआर्इ करे
BRD Medical College Tragedy

Dheerendra Vikramadittya | Updated: 24 Aug 2019, 02:14:22 AM (IST) Gorakhpur, Gorakhpur, Uttar Pradesh, India

आईएमए (Indian Medical Association) ने बीआरडी मेडिकल काॅलेज के आक्सीजन कांड (BRD Medical College Oxygen tragedy) की कार्रवाई पर सवाल उठाए

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (Indian Medical Association) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) को पत्र लिखकर बीआरडी मेडिकल काॅलेज(BRD Medical College) के निलंबित प्रवक्ता डाॅ.कफिल अहमद खान (Dr. kafil Ahmad khan) का निलंबन वापस लेने की सिफारिश की है। आईएमए ने पीएम मोदी से डाॅ.कफिल पर लगे आरोपों सहित बीआरडी मेडिकल काॅलेज आक्सीजन कांड की जांच किसी केंद्रीय एजेंसी से कराने की मांग की है।

Read this also: श्रीकृष्ण जन्माष्टमी नजदीक आते ही इस जिले के पुलिसवाले सिहर जाते हैं, जानिए उस घटना को जो ढार्इ दशक बाद भी खौफ पैदा करता

आईएमए (IMA) ने पीएम मोदी को लिखे पत्र में कहा है कि बाल रोग स्पेशलिस्ट डाॅ.कफिल खान का जब से निलंबन हुआ है तबसे उनका परिवार बेहद मुफलिसी में जीवन व्यतीत कर रहा है। प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में आईएमए ने पिछले दो सालों से डाॅ.कफिल अहमद खान व उनके परिवार की त्रासद स्थितियों का जिक्र करते हुए कहा है कि जिन आरोपों की सजा डाॅ.खान भुगत रहे हैं उसके इतर उन्होंने बच्चों की जिंदगियों को बचाने का प्रयास किया।
आईएमए ने कहा है कि आक्सीजन की सप्लाई बाधित होने से बच्चों की मौत हुई। वेंडर का बकाया था इसलिए उसने सप्लाई रोक दी। इसमें डाॅ.कफिल अहमद खान का कोई रोल नहीं रहा। डाॅ. कफिल ने आक्सीजन (Oxygen tragedy in Gorakhpur) खत्म होने के बाद अन्य जगहों से आक्सीजन मंगाकर बच्चों की जान बचाने की कोशिश की थी।

Read this also: छद्म राष्ट्रवाद पर पद्मविभूषण नारायणमूर्ति का प्रहार, जय हो, मेरा भारत महान कहना आसान, मूल्यों की रक्षा करना दुष्कर

आईएमए ने पीएम मोदी को लिखे पत्र में कहा है कि दुर्भाग्यवश डाॅ.कफिल खान को बिना किसी पुख्ता सबूत के आरोपी बना दिया गया। इस मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट भी मान चुका है कि बिना सबूत के ही डाॅ.कफिल खान को आरोपी बना दिया गया। कफिल आक्सीजन की टेंडर प्रक्रिया में शामिल नहीं थे।
आईएमए ने पत्र में यह भी जिक्र किया है कि एक आरटीआई से मिले जवाब में यह साफ हो चुका है कि बीआरडी मेडिकल काॅलेज में 10, 11 व 12 अगस्त 2017 को 54 घंटे आक्सीजन की सप्लाई बाधित रही थी। यह भी बताया गया है कि डाॅ.कफिल अहमद खान ने आक्सीजन का जंबो सिलेंडर व्यवस्था कराने में मदद भी की थी।

Read this also: पीएम मोदी के सांसद हो गए फेल, अब राज्यपाल ने विश्वविद्यालयों को दी यह जिम्मेदारी

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned