धीरेन्द्र विक्रमादित्य गोपाल
गोरखपुर. शहर काजी सहित कई मदरसों संगठनों, शिक्षकों व धर्मगुरुओं ने सरकारी तंत्र पर आरएसएस के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया है। शहर काजी के अनुसार उनको व अनुदानित व गैर अनुदानित मदरसों के करीब 200 मुस्लिम धर्मगुरुओं व शिक्षकों को आरएसएस विंग 'मुस्लिम राष्ट्रीय मंच' के व्यक्तिगत प्रोग्राम में शामिल होने का दबाव बनाकर सरकार ने मदरसा शिक्षकों को गुमराह किया है।


बता दें अयोध्या के रामकथा पार्क में 17 सितंबर को एक कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें कैबिनेट मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी शामिल थे। अल्पसंख्यक विभाग द्वारा प्रोग्राम में शामिल होने के लिए मदरसा शिक्षकों को निर्देशित किया गया। 


कार्यक्रम में शिरकत करने वाले लोगों के अनुसार विभाग के दबाव पर जिले के अनुदानित व गैर अनुदानित मदरसों के करीब 200 शिक्षक सरकारी प्रोग्राम समझकर शिरकत करने को तैयार हो गये। बाकायदा मदरसे वालों ने एक बस की जिसमें 40-50 मदरसा शिक्षक गये जिसका खर्चा भी मदरसे वालों ने ही उठाया। इसके अलावा बाकी शिक्षक अपने साधन से गये।


शिक्षकों ने बताया कि जब यह काफिला अयोध्या रामकथा पार्क में पहुंचा तो समझ में आया कि प्रोग्राम आरएसएस विंग मुस्लिम राष्ट्रीय मंच का हैं और मार्गदर्शक व मुख्य वक्ता हैं इन्द्रेश कुमार। मुख्य अतिथि के तौर पर कैबिनेट मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी भी शामिल हुए।


शहर काजी व टीचर्स एसोसिएशन मदारिसे अरबिया के प्रदेश महामंत्री हाजी दीवान साहेब जमां खान ने कहा कि सरकार द्वारा सरकारी कार्यक्रम कह कर आरएसएस के प्रोग्राम में सहभागिता करायी जा रही हैं। अगर पहले से पता होता तो इसमें शिरकत नही करते। यह मुस्लिम धर्मगुरुओं व मदरसा शिक्षकों के साथ धोखा हैं। आरएसएस के प्रोग्राम में मुस्लिम धर्मगुरुओं व मदरसा शिक्षिकों की सहभागिता करवाना निंदनीय हैं। सरकार के इस फैसले से मुस्लिम धर्मगुरुओं व शिक्षकों में काफी रोष हैं।

 

मुफ्ती वलीउल्लाह बोले, ऐसे कार्यक्रमों में जाना गंवारा नहीं
गोरखपुर के शहर काजी मुफ्ती वलीउल्लाह ने  कहा है कि "सरकार ने हमको गुमराह किया हैं। यहां हमारे मसले को हल करने के लिए नहीं बल्कि हमें जबाह करने करने के लिए बुलाया गया था यह उलेमा व शिक्षकों के साथ धोखा हुआ हैं। ल्पसंख्यक विभाग ने दबाव बना कर मुस्लिम धर्मगुरुओं व मदरसा शिक्षकों के साथ धोखा किया हैं। अगर हमारे इल्म में होता तो कतई इस प्रोग्राम में शिरकत नहीं करते । इसकी हम भरसक निंदा करते हैं। यह अफसोसनाक हैं। मुझे बोलने के लिए कहा गया मैं उठकर चला आया। ऐसे प्रोग्रामों में जाना हमें गंवारा नहीं।"

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned