सपा से मुकाबला के लिए गोरखपुर में उतरे यह प्रत्याशी, बढ़ी राजनैतिक सरगरमी

सपा से मुकाबला के लिए गोरखपुर में उतरे यह प्रत्याशी, बढ़ी राजनैतिक सरगरमी

Dheerendra Vikramadittya | Publish: Sep, 06 2018 04:32:47 PM (IST) Gorakhpur, Uttar Pradesh, India


गोरखपुर विवि में छात्रसंघ चुनाव की सरगर्मी बढ़ी

दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में छात्रसंघ चुनाव की बिसात बिछ चुकी है। सभी राजनैतिक दल अपने अपने छात्र इकाईयों के माध्यम से इस जंग को जीतने की फिराक में हैं। समाजवादी छात्रसभा का पैनल सामने आने के बाद अब अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने भी अपने पत्ते खोल दिए हैं। एबीवीपी ने विवि छात्रसंघ चुनाव के लिए सभी प्रमुख पदों पर प्रत्याशी की घोषणा कर दिया है।
एबीवीपी ने डीडीयू में छात्रसंघ अध्यक्ष पद के लिए रंजीत सिंह श्रीनेत को प्रत्याशी बनाया है। जबकि उपाध्यक्ष पद के लिए उत्कर्ष सिंह सैंथवार, महामंत्री पद के लिए शिवांगी मिश्र को प्रत्याशी बनाया है। पुस्तकालय मंत्री पद के लिए अनूप कुमार भारती को प्रत्याशी बनाया गया है।

दो दिन पहले समाजवादी छात्रसभा ने किया था पैनल का ऐलान

मंगलवार को दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में छात्रसंघ चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी छात्र सभा ने पैनल का ऐलान किया था। पार्टी ने विवि की महिला छात्रनेता अन्नू प्रसाद को अध्यक्ष पद के लिए अपना उम्मीदवार बनाया है। जबकि महामंत्री पद के लिए सुधीर यादव को प्रत्याशी बनाया गया है। छात्रसभा के पैनल में उपाध्यक्ष प्रत्याशी के रूप में राहुल यादव को उतारने का ऐलान किया गया है।
समाजवादी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चैधरी ने गोविवि में हो रहे छात्रसंघ चुनाव के लिए पैनल का ऐलान किया था।


13 सितंबर को है छात्रसंघ चुनाव

गोरखपुर विवि में छात्रसंघ चुनाव आगामी 13 सितंबर को है। छात्रसंघ चुनाव के लिए गुरुवार को पर्चा दाखिल करने की अंतिम तिथि थी। कार्यकारिणी के लिए बुधवार को पर्चा दाखिला का समय तय किया गया था जबकि गुरुवार को अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, महामंत्री, पुस्तकालय मंत्री पद के दावेदारों को नामांकन करने के लिए समय दिया गया था। अगले दो दिनों में नामांकन पत्रों की जांच, पर्चा वापसी आदि की प्रक्रिया को पूरी कराने के बाद मैदान में बचे प्रत्याशियों के नामों का ऐलान कर दिया जाएगा। चुनाव अधिकारी प्रो.ओपी पांडेय ने बताया कि मंगलवार को चुनाव तिथियों के ऐलान के साथ ही चुनाव आचार संहिता को लागू कर दिया गया था।

 

Ad Block is Banned