जब कांग्रेस प्रवक्ता प्रो.गौरव बल्लभ ने पूछा क्या ऐसा ही होता है मुख्यमंत्री का शहर

  • शहर में गंदगी और खराब ट्रैफिक व्यवस्था पर कांग्रेस प्रवक्ता का कटाक्ष
  • बिजली विभाग के पीएफ घोटाला पर कांग्रेस ने योगी को घेरा

गोरखपुर पहुंचे कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रो.गौरव बल्लभ (Prof Gaurav Vallabh) ने डीएचएफएल घोटाले पर सीएम योगी आदित्यनाथ से नैतिकता के आधार पर इस्तीफा मांगा है। सीएम के गृह जनपद में पहुंचकर यूपी भाजपा सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए प्रो.गौरव बल्लभ ने कहा कि बिजली विभाग के कर्मचारियों का चार हजार करोड़ रुपये घोटाला कर दिया गया। आखिर इसका जिम्मेदार कौन है। आखिर योगी जी ने उर्जा मंत्री को क्यों नहीं उठाया। नैतिकता के आधार पर इस मामले में उनको ही इस्तीफा दे देना चाहिए।
प्रो.बल्लभ (Congress Spokesperson Prof Gaurav Vallabh in Gorakhpur) गोरखपुर में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि चार हजार करोड़ रुपये का पीएफ घोटाला छोटी रकम नहीं है। आखिर क्यों इस मामले में अपने मंत्री और चहेतों को योगी जी बचाने में जुटे हुए हैं।
कांग्रेस के चर्चित प्रवक्ता प्रो.गौरव बल्लभ ने कहा कि योगी कहते थे कि प्रदेश को मच्छर व माफिया से निजात दिलाएंगे। मच्छर की स्थिति देखनी हो तो सरकारी अस्पताल में देख लीजिए और माफिया पूरे प्रदेश में बेखौफ होकर घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। कहा कि भगवान की जाति बताने वालों को भगवान भी माफ नहीं करेंगे।

Read this also: पराली जलाने पर 14 किसानों पर केस, चार गिरफ्तार, दस पर जुर्माना

मुख्यमंत्री के शहर पर किया कटाक्ष

प्रो.गौरव बल्लभ ने गोरखपुर पहुंचने के बाद शहर की स्वच्छता व यातायात व्यवस्था पर जमकर कटाक्ष किया। उन्होंने कहा कि शहर में घुसने पर सड़कों पर दोनों ओर कचरा पसरा मिला। कुछ किलोमीटर सफर में 45 मिनट लगे। यहां ट्रैफिक की कोई व्यवस्था ही नहीं दिखी। क्या मुख्यमंत्री का शहर ऐसा ही होता है।

Read this also: बसपा का संगठनात्मक बदलाव कितना कारगर साबित होगा इन दो मंडलों की 42 सीटों पर

जब कांग्रेस प्रवक्ता प्रो.गौरव बल्लभ ने पूछा क्या ऐसे ही होता है मुख्यमंत्री का शहर

नोटबंदी इस देश का काला दिवस

नोटबंदी पर मोदी सरकार प्रहार करते हुए प्रो.बल्लभ (Prof Gaurav Vallabh) ने कहा कि नोटबंदी इस देश के लिए काला दिवस साबित हुआ। यह बेरोजगारी के साथ साथ विभिन्न सेक्टरों को बर्बाद कर दिया। युवाओं के लिए यह शोक दिवस था। कहा कि बेरोजगारी का कोई वैश्विक कारण नहीं है बल्कि इसके लिए नोटबंदी जिम्मेदार है। उन्होंने कहा कि गलत तरीके से जीएसटी लागू करने से अर्थव्यवस्था चरमरा गई। असंगठित क्षेत्र, निर्माण क्षेत्र व कृषि को तो पहले ही नोटबंदी के जरिये खत्म कर दिया गया है।
सरकार की गलत नीतियों से रोजगार खत्म हो रहे। नौकरियां जा रही। युवाओं में रोष है। जो युवा इस सरकार को 303 तक पहुंचाए थे अब वही युवा इस सरकार को तीन पर ला देंगे।

जब कांग्रेस प्रवक्ता प्रो.गौरव बल्लभ ने पूछा क्या ऐसे ही होता है मुख्यमंत्री का शहर

उन्होंने कहा कि आठ नवम्बर उस काला दिवस की बरसी है। दुनिया का कोई अर्थशास्त्री नोटबंदी को जायज नहीं ठहराया। आखिर भाजपा की क्या मजबूरियां थी कि नोटबंदी लागू करना पड़ा।
उन्होंने पीएम मोदी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि दो अक्तूबर को तालियां बजाना गांधी को श्रद्धांजलि नहीं है। जिस देश में भीड़ एक व्यक्ति को पीटकर मार डालती है और पीएम एक ट्वीट तक नहीं करते, वही पीएम चेकोस्लोवाकिया जैसे देशों में बाढ़ आने पर ट्वीट करने लगते हैं, क्या यही गांधी जी की परंपरा है। यह गांधीजी की परंपरा नहीं है, गांधी जी के देश में तो ऐसा नहीं होता है।

Read this also: सरकारी स्कूलों के टीचर्स को अवकाश के लिए करना होगा यह काम, अब नहीं चल पाएगी छुट्टी की घपलेबाजी

धीरेन्द्र विक्रमादित्य
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned