BRD हादसा: पुष्पा सेल्स के मालिक मनीष भंडारी की जमानत अर्जी खारिज

Akhilesh Tripathi

Publish: Oct, 13 2017 08:50:03 (IST)

Gorakhpur, Uttar Pradesh, India
BRD हादसा: पुष्पा सेल्स के मालिक मनीष भंडारी की जमानत अर्जी खारिज

इस मामले की एक और आरोपी डॉ.पूर्णिमा शुक्ला को भी पहले अदालत से झटका मिल चुका है।

 

गोरखपुर. बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी से बच्चों की हुई मौत के मामले में आरोपी पुष्पा सेल्स के मालिक मनीष भंडारी की जमानत अर्जी को ख़ारिज कर दिया गया है। अपराध की गंभीरता को देखते हुए विशेष न्यायाधीश राकेश धर दुबे ने जमानत देने से इंकार कर दिया। इस मामले की एक और आरोपी डॉ.पूर्णिमा शुक्ला को भी पहले अदालत से झटका मिल चुका है।

 


बता दें कि बीआरडी मेडिकल कॉलेज में आक्सीजन सप्लाई की जिम्मेदारी पुष्पा सेल्स प्राइवेट लिमिटेड को थी। लेकिन कम्पनी ने बकाया धनराशि नहीं मिलने पर ऑक्सीजन की सप्लाई रोक दी। इसकी वजह से अगस्त माह के 10 व 11 तारीख को पांच दर्जन से अधिक मासूमों की मौत हो गई।

 


अभियोजन पक्ष से डीजीसी इंदल यादव ने जमानत अर्जी का विरोध करते हुए कहा कि पुष्पा सेल्स का आक्सीजन की सप्लाई रोकना सदोष मानव वध की श्रेणी में आता है। इसलिए अभियुक्त को जमानत नहीं दी जानी चाहिए। इसके अलावा इसके खिलाफ 406 व 120 बी की धाराएं भी लगी हैं। हालांकि, बचाव पक्ष ने जमानत केलिए कई दलील दी परंतु न्यायालय ने अर्जी खारिज कर दी।

 


बता दें कि मेडिकल कॉलेज में 10 व 11 अगस्त को ऑक्सीजन सप्लाई ठप होने व अन्य उपलब्धता नहीं होने से करीब पांच दर्जन मासूमों की मौत हुई थी। मामला पूरे देश में चर्चित हुआ। सरकार की फजीहत होने के बाद मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक जांच कमेटी गठित की गई। जांच रिपोर्ट आने के बाद डीजीएमई डॉ.केके गुप्ता की तहरीर पर हजरतगंज थाने के केस दर्ज कराया गया। बाद में यह एफआईआर गोरखपुर जिले के गुलरिहा थाने में स्थानांतरित कर दिया गया।

 

इस पूरे प्रकरण में ऑक्सीजन सप्लायर कंपनी पुष्पा सेल्स का मालिक मनीष भंडारी, मेडिकल कॉलेज के पूर्व प्राचार्य डॉ.राजीव मिश्र, पूर्व प्राचार्य की पत्नी डॉ. पूर्णिमा शुक्ला, एनेस्थिसिया के विभागाध्यक्ष डॉ.सतीश कुमार, डॉ.कफील, सीनियर फार्मसिस्ट गजानन जायसवाल, सहायक लेखाकार संजय त्रिपाठी, उदय शर्मा और सुधीर पाण्डेय को आरोपी बनाया गया। फिर सात आरोपियों की गिरफ्तारी हुई। दो ने न्यायालय में सरेन्डर किया था।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned